19 सितंबर 2018

हम सब मिलकर कौन सा भारत निर्माण कर रहे है

Nowadays has Come Fast a New Trend


आज कल एक विशेष ट्रेंड लोगों के बीच है अधिकतर लोगो में महिलाओं को लेकर अश्लील फोटो और विडिओ डालने का प्रचलन बहुत तेजी से चल पड़ा है कभी आपने सोचा है कि हम कौन सा भारत निर्माण कर रहे है? आखिर क्या हम दुनियां को दिखाना या बताना चाहते है कभी सोचा है कि आप अपने मस्तिष्क में क्या-क्या कूड़ा करकट भरना चाहते है हर वक्त दिमाक में या जीवन में सिर्फ अश्लीलता ही अश्लीलता बाकी रह गई है-

हम सब मिलकर कौन सा भारत निर्माण कर रहे है

कभी-कभी मुझे अपनी युवा पीढ़ी पर तरस आता है ये सोच कर कि आपस में सोसल मीडिया, व्हाट्सअप पर इस प्रकार की सामग्री भेज कर वो अपने स्वास्थ्य के प्रति भी खिलवाड़ ही कर रहे है इस प्रकार की सामग्री भेजने वाले ज्यादा तर अपनी फेक आईडी से ही इस तरह के कार्य को अंजाम देते है आपको इनसे सावधान रहने की आवश्यकता है अधिकतर ऐसे लोग हमारी नई पीढ़ी को सिर्फ बर्बाद करने का काम ही कर रहे है-

इस प्रकार की सामग्री भेज कर या दिखाकर सिर्फ आपका मन विचलित किया जाता है आपके मन में अस्थिरता भरने का सिर्फ एक प्रयास होता है कुछ समझदार लोग तो इस पर ध्यान नहीं देते है लेकिन कुछ लोगों में इन चीजों के प्रति आकर्षण उत्पन्न होता है और परिणाम स्वरूप अपने मस्तिष्क में अश्लीलता भर लेते है गलत संगत के कुचक्र में फंस कर अपने शरीर की हानि करते है-

मेरे पास सवाल पूछने वालों की संख्या में शरीरिक रूप से कमजोर दिमाकी रूप से शिकार ऐसे लोगों के प्रश्न की संख्या 80 प्रतिशत से ऊपर है जो नादानीवश गलत कामों से अपने शरीर का पौरुष खो चुके है या खोने की कगार पर खड़े है आखिर आप अपनी आने वाली नई पीढ़ी को क्या दे कर जाना चाहते है कभी तो समय निकाल कर इस पर आपको गौर करना चाहिए-

मीडिया विज्ञापन में भी आजकल अश्लीलता का दौर चल पड़ा है टी वी कार्यक्रम के दौरान हमे विज्ञापन के रूप में परोसा जाता है फेमिली में भी इसका बुरा असर देखने को मिलता है जब हमारे ही बच्चे हमसे सवाल करते है और हम बगलें झांकते नजर आते है-

इन्शान के दिलों में आज किसी के लिए कोई समय नहीं रह गया है स्मार्ट युग में हम समाज से ही कट गए है कोई भी अच्छी बातों पर ज्ञान विज्ञान पर चर्चा नहीं करना चाहता है मोबाइल युग में हम सब कुछ मोबाइल पर ही पा लेना चाहते है हम ये नहीं कहते है कि विकास के साथ हम नहीं जुड़ें लेकिन आज का युवा मोबाइल पर जुड़ कर जो भी सर्च करता है उसकी वास्तविकता क्या है ? आप क्या सही रूप से अपने विवेक का इस्तेमाल कर पा रहे है जो सर्च में आपके सामने आया है क्या वो सच है इस पर एक बहुत बड़ा प्रश्न-चिन्ह लगा हुआ है-

हम सब मिलकर कौन सा भारत निर्माण कर रहे है

आप जो सामग्री पढ़ रहे है क्या उतनी सटीक है क्या उस पर रिसर्च हुआ है नहीं है? मेरे पास भी सैकड़ों सवाल आते है फला साइट पर ऐसा लिखा है फला यूट्यूब पर हमने ये देखा है तो आज भाईओं हर नौजवान अपना चैनल यूट्यूब पर बना कर ज्ञान बांटता मिलता है लेकिन जब आप कांटेक्ट करने का प्रयास करें तो महाशय जी का या तो फोन नंबर ही नहीं होता या फिर मेल आईडी पर सवाल भेजो तो कोई उत्तर नहीं मिलता है ? इसका कारण शायद आपको नहीं पता है चलिए हम इस बात से आज पर्दा उठा देते है ताकि आपकी थोड़ी बहुत शंका का समाधान शायद हो जाएँ -

क्या है वास्तविकता-


आज युवा पीढ़ी बेरोजगार से जूझ रहा है लोगों के पास काम नहीं है कुछ टेक्नीकल साइट यूट्यूब पर आपको अपनी साइट बनाने का तरीका बताती है तथा उससे होने वाली इनकम के बारे में भी अवगत कराती है बस यही से शुरू होता है बेरोजगार व्यक्ति के लिए आय जुटाने का एक संसाधन-

तुरंत एक साइट का निर्माण होता है और अब होता है कि आखिर-साइट तो बन गई अब कंटेंट क्या डाला जाए-वास्तविकता ये है कि खुद उनको कुछ पता नहीं है तो फिर अब कैसा कंटेंट डाला जाए जिससे लोग आकर्षित हों-कुछ लोग आयुर्वेद साइट बना लेते है कुछ लोग न्यूज पोर्टल बना लेते है कुछ लोग संस्मरण या कुछ लोग अपनी अलग-अलग रूचि के अनुसार साइट बना लेते है अब उनके पास लिखने के लिए नया कुछ नहीं या समय भी नहीं है लेकिन इनकम की आवश्यकता है तो फिर आप लोगों से ज्यादा साइट वो लोग खुद ही सर्च करते है और फिर शुरू होता है कॉपी-पेस्ट करना या कुछ इधर की कुछ उधर की लेकर साइट पर डाल देना-बस कमाल उनके आकर्षित करने वाले टाइटल का होता है-

तीन दिन में आराम- अभी खाओ और अभी आराम- सात दिन में जड़ से खत्म-इसी तरह न्यूज पोर्टल की साइट पर भी आकर्षित टायटल का निर्माण किया जाता है आप को भी आखिर ऐसी ही तलाश होती है और आप ऐसी साइट को सर्च करते है और फिर अपने मस्तिष्क में कूड़ा-कचड़ा जमा करने लग जाते है बहुतयात ये देखने में आया है लोग कन्फुज ज्यादा होते है और कुछ लोग तो कुछ ऐसी चीजे पढ़ कर डिप्रेसन का शिकार भी हो जाते है-

इसी तरह पोर्न साइट पर भी चलता है उनमे दिए जाने वाले विज्ञापन आपको तुरंत ही नामर्दी से मुक्त कराने का दावा करते नजर आते है लेकिन वास्तविकता कुछ और ही होती है अब हम मुद्दे की बात पर आते है इन बेरोजगार युवा की इनकम का साधन गूगल या अन्य प्राइवेट साइट के विज्ञापन से होता है जिसकी इनकम उनको भेजी जाती है और वो आपको अपनी साइट पर ऐसी वाहियात खबर या नुस्खे भेजते रहते है आज इन साइटों की संख्या हजारों में है लेकिन हम ये नहीं कहते है कि सभी लोगों की साइट ऐसी है कुछ अच्छी जानकारी देने की साइट भी उपलब्ध है जो लोग आपकी समस्या या जानकारी के लिए आपसे सम्पर्क भी करते है लेकिन ऐसे लोगों पर भी समय का अभाव होता है-

आप को इस लेख के माध्यम से सिर्फ ये बताने का प्रयास किया है कि आप जो भी सर्च करें या देखे अपनी बुद्धि या विवेक का भी इस्तेमाल अवश्य करें हमारी युवा पीढ़ी को अश्लीलता से बचना चाहिए आपको पोर्न फोटो या विडिओ भेजने वाला या प्रेरित करने वाला आपका मित्र हो ही नहीं सकता है ऐसे लोगों से दुरी बना कर आप अपनी लाइफ में स्वास्थ्य के प्रति जागरूक बन सकते है तथा अपनी भावी पीढ़ी को भी एक सन्देश दे सकते है-

स्मार्ट युग में संसाधन आपकी जानकारी के लिए अवश्य है लेकिन परिवार और समाज से भी आपको बहुत ज्ञान मिलता है इसे बिलकुल भी नकारे नहीं-आपके बुजुर्गों का ज्ञान भी आपके लिए बहुत महत्व पूर्ण है -


विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है... धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...