वशीकरण मन्त्र

मन्त्र-

जंगल की योगिनी पाताल के नाग
उठो मेरे वीरो …………….. को ल्याओ हमारे पास(इस खाली स्थान में आप उसका नाम लें जिसे वश में करना है)
यहाँ यहाँ हमारे सहाई
अब नाज़ भरी ताज भरी अग्नि तक फूक फिरो
मन विसरे मेरे गुरु गोरखनाथ की दुहाई !

विधि-

इस मन्त्र को पहले ग्रहण काल या दिवाली की रात में जप करके सिद्ध कर ले -ग्रहण काल में या दिवाली में जप करने से यह मन्त्र सिद्ध हो जायेगा-इसे 1008 बार जप करना होता है -

प्रयोग विधि-

जब किसी पर प्रयोग करना हो तो उसका नाम मन्त्र में दिए गए खाली स्थान पर कह दे और 21 दिन तक हर रोज 1 गुंजा की माला पर जप करे-और उस व्यक्ति का मानसिक रूप से ध्यान भी करें आपको जिसे वश में करना है-वो जरूर वशीभूत होगा जितना आपका ध्यान उसके प्रति बलवान होगा उतनी ही जल्दी परिणाम सार्थक मिलेगा-

बस इस मन्त्र का दुरूपयोग न करे- मेरा विश्वास है यह प्रयोग करने के बाद आपके जीवन में बदलाव जरूर आएगा-

लेबल