रोज खाए एक सेब और रहे आप स्वस्थ - Roj Khaye Ek Sev Aur Rahe Aap Swasth

रोजाना एक सेब  खाने से आप हमेशा डॉक्टर के पास जाने से बचे रहेंगे। तो मित्रों आप रोज एक छिलके सहित सेब खाएं और दवाओं को भूल जाए.सेब पोष्टिक तत्वो का घर है। सेब खाना कुछ रोगो को रोकने और इलाज करने में मदद करता है। इसके अलावा, यह शरीर के समग्र स्वास्थ्य को भी बनाए रखने में मदद करता है-

एप्पल उन लोगो के लिए एक बढ़िया विकल्प है जो वजन कम करना चाहते है चूंकि यह अतिरिक्त कैलोरी को खाने में शामिल किये बिना भूख को शांत करता है। इसमें पैक्टिन शामिल है जो मानव शरीर की कोशिकाओं द्वारा अवशोषित वसा की मात्रा को नियंत्रित करता है। इसलिए सेब का सेवन अपने पेट को भरने के लिए एक अच्छा विकल्प है जब आप भोजन के लिए तड़प रहे हो। सेब में पाया जाने वाला पेक्टिन ग्लेक्टरोनिक एसिड का एक स्त्रोत है। यह शरीर में इंसुलिन की जरूरत पर प्रतिबंध लगाता है और इस प्रकार मधुमेह के प्रबंधन में मदद करता है-


सेब दोनों घुलनशील और अघुलनशील फाइबर का एक अच्छा स्रोत है। यह पाचन की प्रक्रिया को विनियमित करने में मदद करता है और कब्ज से राहत देता है। इसके अलावा, सेब का छिलका शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करता है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि सेब का छिलका उतारे बिना उन्हे खाना चाहिए वरना सेव से फाइबर का लाभ प्राप्त करने में असमर्थ होगे। सभी को हमारे आहार में फाइबर के महत्व के बारे में जानना चाहिए-

सेब मस्तिष्क बिमारियों जैसे कि अल्जाइमर की रोकथाम करने में भी उपयोगी है क्योंकि यह मुक्त रेडिकल डेमेज से मस्तिष्क कोशिकाओं की रक्षा करता है जो अल्जाइमर का कारण बनती है। 

सेब फ्लेवोनॉयड क्यूरसेटिन और नरीन्जिन की मात्रा उच्च होती है जो 50 प्रतिशत तक फेफड़ो के कैंसर को होने से रोकती है-

सेब खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है। ये स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि बहुत स्वास्थ वर्धक भी होता है।

स्वस्थ जीवनशैली चाहते हैं, तो हर रोज एक सेब खाना शुरू करें। सेब में पाए जाने वाले विशेष तत्व मोटापे से संबंधित बीमारियों को दूर रखने में मददगार हो सक ते हैं।

सेब उर्जा का एक बहुत अच्छा स्रोत है चूंकि यह फेफड़ो के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति में मदद करता है। इसलिए, आपको वर्कआउट करने से पहले कुछ सेब खाने की सलाह दी जाती है। यह आपकी क्षमता को बढ़ाता है और आपकी उर्जा के स्तर में भी वृद्धि लाता है। इन स्वास्थ्य लाभों के अलावा, सेब में मिनरल और विटामिन प्रचुर मात्रा में होती है जो रक्त को साफ करते है।

इसमें एंटी आक्सीडेंट पाए जाते हैं जोकी हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के कैंसरो को बढने से रोकता है| सेब दिल की बिमारियों को भी ठीक कर देता है|

सेब का जूस हमारे शरीर मे से सभी हानिकारक तत्वों को बाहर निकाल देता है जिससे हमारी किडनी और लीवर कि बीमारियाँ ठीक हो जाती हैं|

सेब मे अधिक मात्रा मे एंटी आक्सीडेंटपाए जातें हैं जो कि कलोस्ट्रोल के लेवल को कम करने मे मदद करते हैं|

सेब से बहुत से मिनरल्स (पोटाशियम, कैल्सियम, फोस्फोरोस और मग्नेशियम, आयरन, कापर और जिंक) होते हैं जो कि त्वचा, नाखुनो और बालों के स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होतें हैं|

सेब खाने से दिमाग तेज होता है। पड़ने वाले बच्चो को तो सेब जरुर खाना चाहिए|

सेब हमारे शरीर मे ऐसे बेक्टेरिया को बढने मे मदद करता है जो हमारी पाचन प्रणाली को बढ़ाते हैं|

सेब खाने हमारे शरीर के फेफड़े स्वस्थरहते हैं।

इसका सेवन दांतों और मसूढ़ों को मजबूत और कीटाणु रहित बनाता है।

गले में खराबी आने पर ताजे सेब का रस कुछ देर गले में ही रोक कर रखें।

सेब में पाया जाने वाला फाइबर दिल के मरीजों के लिए बहुत ही लाभदायक होता है|

सेब का जूस अधिक उम्र के लोगो के लिए बहुत लाभदायक होता है क्योंकि ये गठिया और जोड़ो के दर्द को कम करने मे मदद करता है|

सेब खाने से मस्तिष्क की कमजोरी दूर होती है। दोपहर तथा रात को कच्चे सेब की सब्जी मस्तिष्क के रोगों में लाभ पहुंचाती है। रोज शाम को एक मीठा सेब तथा रात को एक गिलास सेब का शरबत पीने से रोगी को अतिशीघ्र लाभ होता है।

शरीर में रक्त की कमी हो, उच्च रक्तचाप हो तो सेब का सेवन अति लाभदायक है।

आंखों के रोगी इसकी पुल्टिस बनाकरआंखों पर रखें और ताजे सेब को मक्खन के साथ खाएं। इससे पेशाब खुलकर आएगा तथा चेहरे की रंगत भी सुर्ख हो जाएगी।

यह पेट के कीड़े, कब्ज और अम्लता को दूर करता है। तथा पुराने सिर दर्द में रोज एक सेब नमक लगाकर खाएं।

खांसी में सेब के रस में मिश्री मिलाकर पिएं

बुखार में रोगी को ताजे सेब का रस पिलाने से फायदा होता है।

सेब का यौन संतुष्टि पर इसलिए बेहतर असर होता है क्योंकि रेडवाइन और चॉकलेट की तरह उनमें पॉलोफेनोल्स होते हैं और एंटीऑक्सिडेंट्स जननांग और योनि तक रक्त प्रवाह को प्रोत्साहित करने में मदद करते हैं, जिस कारण उत्तेजना में मदद मिलती है. सेब में फ्लोरीजिन भी पाए जाते हैं. फल और सब्जियों में पाया जाने वाला यह आम एस्ट्रोजन है और जो संरचनात्मक दृष्टि से एस्ट्राडियोल के समान है. यह महिला हार्मोन है और महिला कामुकता में बड़ी भूमिका निभाता है. बेशक अध्ययन की एक सीमा है. साथ ही शोध में अपेक्षाकृत छोटा सैंपल लिया गया था. हालांकि शोधकर्ताओं का कहना है कि नतीजे दिलचस्प है. एक सेब हर रोज खाने जैसी सलाह तो है ही. इससे महिलाओं और पुरुषों दोनों में ही सेक्स संबंधी हॉर्मोन भी सक्रिय होते हैं. सेब को महिलाओं के यौनजीवन के लिए खास कर फायदेमंद माना जाता है-



सेब की चटनी केसे बनाये :-

सामग्री :-
500 ग्राम हरे सेब(छीलकर कटे हुए), 2 टे.सपून घी या तेल, 1-1/2 टी स्पून जीरा, 2 हरी मिर्च (बारीक कटी हुई), 2 टी स्पून पिसा अदरक, 1 टी स्पून हल्दी पाउडर, 1/4 कप पानी, 1/2 टी स्पून दालचीनी, 1 चुटकी जायफल (पिसा हुआ), 1 कप चीनी।

विधि :-
तेल या घी को गर्म करके जीरे को भून लें। हरी मिर्च व अदरक पेस्ट डालकर 1 मिनट पकाएं फिर सेब और हल्दी डाल कर 2-3 मिनट तक हिलाएं। आंच धीमी कर के पानी, दालचीनी व जायफल डालें। जब तक सेब नरम न हो जाए तब तक बीच-बीच में हिलाते हुए पकाते रहें। चीनी डाल कर चटनी को तब तक पकाएं जब तक कि जैम जैसी न लगने लगे।

स्लाइडर सिरका बनाये :-

साधारण प्रयोग के लिए तीखा सिरका सेब या नासपाती के छिलके से बनाया जाता है। इन छिलकों को पानी के साथ किसी भी पत्थर के मर्तबान में रख देते हैं और उसमें कुछ सिरका या खट्टी मदिरा डालकर गर्म स्थान में रख देते हैं और कुछ दिनों बाद उसमें इच्छानुसार पानी डालते हैं एक-दो हफ्ते में सिरका तैयार हो जाता है।

उपचार और प्रयोग -

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner