This Website is all about The Treatment and solutions of General Health Problems and Beauty Tips, Sexual Related Problems and it's solution for Male and Females. Home Treatment, Ayurveda Treatment, Homeopathic Remedies. Ayurveda Treatment Tips, Health, Beauty and Wellness Related Problems and Treatment for Male , Female and Children too.

20 मार्च 2017

यूरिक ऐसिड बढ़ने कारण क्या है

भोजन के रूप मे लिए जाने वाले प्रोटीन प्युरीन(Purine protein)और साथ मे उच्च मात्रा मे शर्करा(Glucose)का लिया जाना रक्त मे यूरिक एसिड(Uric Acid)की मात्रा को बढाता है तथा कई लोगों मे वंशानुगत कारणों को भी यूरिक एसिड के ऊँचे स्तर के लिए जिम्मेदार माना गया है गुर्दे द्वारा सीरम यूरिक एसिड(Uric Acid)के कम उत्सर्जन के कारण  भी इसका स्तर रक्त(Blood) मे बढ़ जाता है-
यूरिक ऐसिड बढ़ने कारण क्या है

उपवास या तेजी से वजन घटाने की प्रक्रिया मे भी अस्थायी रूप से यूरिक एसिड(Uric Acid)का स्तर आश्चर्यजनक स्तर तक वृद्धि कर जाता हैं रक्त आयरन की अधिकता भी यूरेट स्तर को बढ़ाती है जिस पर आयरन त्याग यानी रक्तदान(Blood donation)से नियंत्रण किया जा सकता है पेशाब बढ़ाने वाली दवाएं या डायबटीज़ की दवाओं के प्रयोग से भी यूरिक ऐसिड(Uric Acid) बढ़ सकता है-

उच्च यूरिक एसिड(High Uric acid)के नुकसान-


इसका सबसे बड़ा नुकसान है शरीर के छोटे जोड़ों मे दर्द जिसे गाउट रोग के नाम से जाना जाता है मान लो आप की उम्र 25 वर्ष से ज्यादा है और आप उच्च आहारी हैं रात को सो कर सुबह जागने पर आप महसूस करते है कि आप के पैर और हाथों की उँगलियों अंगूठों के जोड़ो मे हल्की हल्की चुभन जैसा दर्द है तो आप को यह नहीं मान लेना चाहिये कि यह कोई थकान का दर्द है हो सकता है कि आप का यूरिक एसिड स्तर बड़ा हुआ हो-

अगर कभी आपके पैरों की उंगलियों, टखनों और घुटनों में दर्द हो तो इसे मामूली थकान की वजह से होने वाला दर्द समझ कर अनदेखा न करें यह आपके शरीर में यूरिक एसिड बढने का लक्षण हो सकता है इस स्वास्थ्य समस्या को गाउट आर्थराइट्स(arthritis)कहा जाता है-

यूरिक एसिड गठिया(Arthritis)का रूप भी है-


गाउट एक तरह का गठिया रोग(Rheumatism)ही होता है जिस के कारण शरीर के छोटे ज्वाइंट प्रभावित होते हैं और विशेषकर पैरों के अंगूठे का जोड़ और उँगलियों के जोड़ व उँगलियों मे जकड़न रहती है-

इससे एड़ी, टख़ने, घुटने, उंगली, कलाई और कोहनी के जोड़ भी प्रभावित हो सकते हैं इसमें बहुत दर्द होता है जोड़ पर सुर्ख़ी और सूजन आ जाती है और बुख़ार भी आ जाता है  यह शरीर में यूरिक ऐसिड(Uric Acid)के बढ़ने से पैदा होती है-

यह बढ़ा हुआ यूरिक एसिड रक्त के साथ शरीर के अन्य स्थानों मे पहुँच जाता है खास तौर पर हड्डियों के संधि भागों मे जाकर रवा के रूप मे जमा होना शुरू हो जाता है  फिर ये साध्य रोग शरीर के छोटे जोड़ों मे दर्द गाउट Gout को यह  जन्म देती है-

Upcharऔर प्रयोग-

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

GET INFORMATION ON YOUR MAIL

Loading...