Homeopathy-Chronic Kidney inflammation-गुर्दे की पुरानी सूजन

Chronic Kidney inflammation

डबरा(ग्वालियर) के सरकारी अस्पताल के चिकित्सक डाक्टर अहमद साहब को लगभग आठ वषों से- तब से जब वे मेडिकल कालेज में पढते थे क्रोनिक नेफाइटिस की तकलीफ़ थी तेज दर्द, पेशाब में जलन आदि सारे लक्षण थे -एलोपैथिक दवाइयों निष्फल हो चुकी थी - डाँक्टर गौड साहब ने मुझे दिखाने का सुझाव दिया - मैंने जाकर देखा और उनके लक्षणों का अध्यन किया - वेसे तो दवा देने मैँ किसी के यहाँ जाता नहीं हूँ पर उस दिन मेरा एक मित्र आया हुआ था - उसे छोडने मुझे बस स्टेण्ड तक आना ही था सो मैंने कह दिया कि आधे घन्टे में मैं इधर आ ही रहा हूँ आपकी दवा भी लेता आऊँगा -

दवा ले कर जब मैं पहुंचा तो उनकी पत्नी जो स्वयं डाक्टरनी हैं वे भी आ गई - वे कहने लगी कि रात को इनको बहुत दर्द होता है इंजेक्शन लगाने पडते हैं तथा सिकाई आदि भी करनी पडती है - आपकी होम्योपैथी दवा से तो लाभ होने में इन्हें बहुत समय लगेगा - उनकी पत्नी जी होम्योपैथिक दवा देने के कतई भी मूड में नहीँ थीं - मैं भी धर्मसंकट में फँस गया हमने सोचा कि पहिले तो मुझे बुलाया और अब जब मेँ दवा ले कर आया तो दवा लेने से इंकार हो रहा है- 


मैं भी कुछ अपमानित सा महसूस कर रहा था आखिर में डॉक्टर साहब ने कहा कोई बात नहीं है आप दवा दीजिये - मै दवा खाऊँगा - मैं भी कुछ जोश में आ गया और मैंने कहा मैडम- इनको जो कुछ होना है आज की तारीख में ही होना कल से नहीं -यह कह कर मैंने 'केन्थरिस 1000' की एक पुडिया उनके मुह में डाल दी दूसरी पुडिया आधे घन्टे के बाद लेने के लिये कह दिया और 'मेग्नेशियाफांस 6एक्स' की 15-20 गोलियाँ आधा कप गुनगुने पानी में घोल कर रख दी और बता दिया कि यदि दर्द हो तो दो-दो चम्मच दबा 10-10 मिनट से पी ले - 

कल सुबह सात बजे मेँ आपको देखने के लिये फिर आऊँगा दूसरे  दिन सुबह पहुंचने पर डॉक्टर साहब को मैंने अपने बंगले के बगीचे में टहलते देखा - मैंने उन से कहा कि ये उपाय क्या कर रहे है- आपको तो हिलने डुलने के लिये भी मना किया गया था-वे बोले मुझे दर्द वैगेरह तो कुछ है नहीं- कई दिनों से पडे-पडे परेशान हो गया था, सोचा छोडा टहल लूँ -

आप कहते है तो में लेट जाता हूँ तब मैंने कहा मेरी तरफ से कोई भी मनाही नहीं है यदि अगर आप दौड लगा सकते हो तो दौड़ भी लगा लें -इतने में आँखे मलते हुए मैडम भी आ गई -डॉक्टर साहब को बिस्तर पर न देख कर वे भी कुछ घबराई हुई थी - मैंने कहा कहिये मैडम रात को कितनी बार इंजेक्शन लगाये, कितनी बार सिकाई की - उन्होने कहा कि दूसरी खुराक खाते ही ये सो गये -मैं भी तीन-चार रातों से जगी हुईं थी सो में भी सो गई--आप इन्हें से पूछिये रात का हाल-

"वेर्वेरिस वल्गेरिस" मूल अर्क की 5-5 बूंदें दिन में दो बार एक माह तक लेने के बाद सब कुछ ठीक हो गया -दबा बन्द कर दी - वैसे ग्वालियर  जाकर पिक्चर तो वे तीसरे दिन ही देख आये थे-

मेरा पता है -

होम्योपैथी दवा के लिए रोगी ही फोन करे ताकि उसके लक्षण(Symptoms) को जाना जा सके केवल बेमतलब जानकारी मात्र के लिए डिस्टर्व न करे-

KAAYAKALP

Homoeopathic Clinic & Research Centre

23,Mayur Market, Thatipur, Gwalior(M.P.)-474011

Director & Chief Physician:

Dr.Satish Saxena D.H.B.

Regd.N.o.7407 (M.P.)

Mob :  09977423220(फोन करने का समय - दिन में 12 P.M से शाम 6 P.M)

Dr. Manish Saxena

Mob : -09826392827(फोन करने का समय-सुबह 10A.M से शाम4 P.M.)

Clinic-Phone - 0751-2344259 (C)

Residence Phone - 0751-2342827 (R)

प्रस्तुतीकरण- Upcharऔर प्रयोग-

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner