22 अगस्त 2017

स्वप्नदोष होना कितनी बार तक उचित है

How Ejaculation is Suitable


अविवाहित युवकों तथा किशोरों को रात में सोते समय स्वप्न में वीर्यपात होने लगता है तो इसी को स्वप्नदोष (Ejaculation) कहा जाता है इस प्रक्रिया में चाहे उत्तेजना हो या नहीं लेकिन वीर्य अपने आप ही स्खलित हो जाता है अंग्रेंजी में यह रोग स्पर्माटोरिया के नाम से भी जाना जाता है-

स्वप्नदोष होना कितनी बार तक उचित है

स्वप्नदोष (Ejaculation) एक इस प्रकार की अवस्था या प्रक्रिया है जिसमें कोई भी स्त्री शारीरिक रुप से उपस्थित नही होती है बस व्यक्ति केवल स्वप्न में स्त्री या कामिनी का मानसिक अनुभव करता है और अधिकतर देखा गया है कि इसके कारण जब व्यक्ति के दिमाग में तनाव घिर जाता है तो फिर यह रोग का रूप धारण कर लेता है और कुछ समय बाद जननेन्द्रिय (Genital) तथा मानसिक स्थिति इतनी अधिक कमजोर हो जाती है कि वैसे ही सोये रहने पर लिंग उत्तेजित हो जाता है और बिना स्वप्न के ही वीर्य-स्खलन होने लगता है जिसका उपचार शीघ्र करना आवश्यक हो जाता है-

स्वप्नदोष (Ejaculation) प्रक्रिया कभी कभी स्वमेव ही होती है तब इस क्रिया मे व्यक्ति मानसिक रुप से सम्भोगावस्था में होता है किन्तु वास्तविकता में शारिरिक रुप से ऐसा नहीं होने के कारण तथा स्त्री की अनुपस्थिति होने के कारण न तो कभी संभोग का वास्तविक आनन्द ही प्राप्त हो सकता है औऱ न ही संतुष्टि ही मिल सकती है बल्कि यह तो उसकी मानसिक दुर्बलता (mental health) और कुण्ठित व्यक्तित्व तथा आध्यात्मिक दुर्बलता का प्रतीक है-

सामान्य रूप से यदि स्वप्न दोष किसी व्यक्ति को हर माह में एक या दो बार होता है तो यह कोई रोग नहीं है जिसकी कोई चिंता नहीं करनी चाहिए इस अवस्था तक इसे रोग की द्रष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए-किन्तु यदि यह इससे ज्यादा बार होता है तो  oligospermia (अल्पशुक्राणुता) होता है और व्यक्ति को शारीरिक कमजोरी का अहसास होता है क्योंकि यह शुक्र भी रक्त कणों से पैदा होता है और अत्यधिक शुक्र क्षय व्यक्ति को कमजोर कर देता हैं-

स्वप्नदोष होना एक प्रकार की स्वाभाविक प्रक्रिया है और इसे बिना किसी डॉक्टर के सलाह के आप किसी बाजारू अंग्रेजी दवा के द्वारा या फिर खुद इलाज करने का प्रयास करना भी ठीक नहीं है क्योकि बिना चिकित्सीय या वैध्य की सलाह के आप दवा के प्रतिकूल प्रभाव से ग्रसित हो सकते है और लाभ की जगह आपको हानि उठानी पड़ सकती है अभी कुछ दिन पहले ही एक सज्जन ने दवा तो मुझसे पूछी थी और जब हमने उनको नुस्खा बताया तो उन्होंने उस औषिधि के साथ जल्द आराम के चक्कर में अपने मन से Musli safed with milk (सफ़ेद मूसली को दूध से) अतिरिक्त अतिरिक्त मात्रा में दवा में सम्मलित कर लिया और परिणाम स्वरूप रोग और तेजी से बढ़ गया-पूछने पर उन्होंने जब इस बात को जाहिर किया तो मुझे समझ आया कि उन्होंने जल्द आराम के चक्कर में दवा का एंटी डोज बना डाला था-ख़ैर हमारी सलाह है अपने मन से Ejaculation (स्वप्नदोष) की दवा से बचें-


विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

6 टिप्‍पणियां:

  1. Nightfall or wet dreams is a condition characterized by release of semen in sleep during night or early morning. It is also known in the names of nocturnal emission or night discharge. Herbal treatment improves the functioning of reproductive organs and regulates the process of ejaculation, thus reducing the chance of nocturnal emissions. visit http://www.hashmidawakhana.org/seks-max-power-for-nightfall-wet-dreams.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामीअप्रैल 05, 2018

    raat me swapndosh hona phir dopahr bhi swapndosh hona , kya yah bimari hai. ese kaise rokaa jaaye.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अगर किसी स्वप्नदोष होता हो लेकिन अगर होने से पहले ही उसकी नींद खुल जाए और वो उसे control करले और जाके मूत के आजाये तो उस मई कुछ समस्या है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे एक माह में 6 या 7 बार स्वप्नदोष हो जाता है तो क्या यह एक बीमारी है

    उत्तर देंहटाएं
  5. Sir mere ko ok mah me kam se kam 15 se 20 bar ho jata hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ये काफी जादा है आपकी उम्र क्या है शादी हुई या नहीं आपने कुछ भी नहीं लिखा है

      हटाएं

GET INFORMATION ON YOUR MAIL

Loading...