9 अक्तूबर 2018

मधुमेह का अचूक और सफल उपचार क्या है

Successful Treatment of Diabetes


कुछ ऐसे भी फार्मूले है जिनको बाजार में लाने के बजाय फाइलों में कैद किया गया है इस फार्मूले को कोई दवा कंपनी लेने को तैयार नहीं है क्योंकि जिस पेड़ विजयसार (Vijaysar) से यह दवा बनी है उसकी संख्या कम है और उस पर फिर तर्क है कि कंपनियों को कच्चा माल नहीं मिलेगा जी हाँ ये सच भी है कि विजयसार की उपलब्धता कम है इसलिये कोई दवा कंपनी इस फार्मूले को खरीदने के लिये तैयार नहीं है जबकि विजयसार के मनुष्यों पर क्लीनिकल ट्रायल सफल रहे हैं-

मधुमेह का अचूक और सफल उपचार क्या है

लेकिन यह एक ऐसा प्रयोग है जो आसान भी और सफल भी है तथा बहुत ही आसानी से बन जाती है और बहुत प्रभावशाली भी है यह चिकित्सा मधुमेह (Diabetesमे जरूर लाभ करती है जी हाँ विजयसार (Vijaysarनाम से एक लकड़ी है ये हमारे भारत में मध्य प्रदेश से लेकर पूरे दक्षिण भारत मे पाया जाता है और इसकी लकड़ी के टुकड़े हर जड़ी बूटी बेचने वाले पर आसानी से मिल जाते है इसकी लकड़ी का रंग हल्का लाल रंग से गहरे लाल रंग का होता है-

यह दवा नये मधुमेह (Diabetes) रोगियों के लिये तो प्रभावी है ही साथ में उन रोगियों के लिए भी है जिन्हें मधुमेह रोधी दवा खाने से कोई लाभ नहीं होता है उनके लिये भी ये अचूक है हाँ ये बात अवश्य सत्य है कि वैज्ञानिक अध्ययनों से इस बात की पुष्टि तो होती है कि इस पौधे की संख्या देश में घट रही है क्योंकि इसकी लकड़ी का व्यवसायिक महत्व है तथा वन विभाग ने इसे संरक्षित पौधों की श्रेणी में रखा है-

विजयसार (Vijaysar) का प्रयोग कैसे करें-


मधुमेह का अचूक और सफल उपचार क्या है

आप बाजार से आधा किलो विजयसार (Vijaysarकी लकड़ी के टुकड़े बाजार से ले आए लेकिन ध्यान रहे जिसमे घुन ना लगा हो अब आप इसे लाकर सूखे कपड़े से साफ कर ले और अगर टुकड़े बड़े है तो उन्हे तोड़ कर छोटे (गेहु /चने के आकार के) टुकड़े बना ले तथा फिर आप एक मिट्टी का बर्तन ले और इस लकड़ी के छोटे छोटे टुकड़े लगभग पच्चीस ग्राम रात को दो कप या एक गिलास पानी में डाल दे आप देखेगें कि सुबह तक पानी का रंग लाल गहरा हो जाएगा ये पानी आप खाली पेट छानकर पी ले और दुबारा आप उसी लकड़ी को उतने ही पानी में डाल दे शाम को इस पानी को उबाल कर छान ले और फिर इसे ठंडा होने पर पी लें-

आप इसकी मात्रा रोग के अनुसार घटा या बढ़ा भी सकते है अगर आप मधुमेह (Diabetesके लिए अग्रेजी दवा का प्रयोग कर रहे है तो एक दम न बंद करे बस धीरे-धीरे कम करते जाए अगर आप इंस्युलीन के इंजेक्शन प्रयोग करते है वह एक सप्ताह बाद इंजेक्शन की मात्रा कम कर दे इस तरह आप हर सप्ताह मे इंस्युलीन की मात्रा 2-3 यूनिट कम कर दे-

मधुमेह (Diabetes) रोगी इस प्रकार भी कर सकते है-


मधुमेह (Diabetes) रोगी के लिए विजयसार की लकड़ी से बने गिलास में रात में पानी भर कर रख दिया जाता है तथा सुबह भूखे पेट इस पानी को पी लिया जाता है विजयसार की लकड़ी में पाये जाने वाले तत्व रक्त में इन्सुलिन के स्राव को बढ़ाने में सहायता करते हैं जी हाँ विजयसार को ना केवल आयुर्वेद बल्कि आधुनिक चिकित्सा विज्ञान भी डायबिटीज में बहुत उपयोगी मानता है-

प्रत्येक मधुमेह के रोगी को 15 दिन मे 1 बार पेट साफ की दवाई जरूर लेनी चाहिए-यह किसी को भी हानि नहीं करता केवल लाभ ही करता है और यह दवा सिर्फ 12 सप्ताह में मधुमेह को ठीक कर देती है बस आप ये समझ लें कि विजयसार अम्रत रस है मधुमेह रोगियों के लिए ....!

मधुमेह (Diabetes) नाशक पाउडर-


इसके लिए आप गिलोय, गुड़मार, कुटकी, बिल्व पत्र, जामुन की गुठलीहरड़, चिरायता, आंवला, काली जीरी, तेज पत्र, बहेड़ा, नीम पत्र एवं अन्य जड़ी बूटियों को रोग के लक्षण के अनुसार एक निश्चित अनुपात में लेकर पाउडर बनाया जाता है जो की डायबिटीज में बहुत फायदेमंद साबित होता है इस उपाय को जरुरत के अनुसार उपयोग करना चाहियें जब तक खून में शुगर का लेवल कम ना हो जाये इसलिए समय-समय पर शुगर चैक करते रहना चाहिए-

आयुर्वेद में बसंत कुसुमाकर रस, शिलाजत्वादि वटी, चन्द्र प्रभा वटी, शुद्ध शिलाजीत तथा अन्य अनेक दवाओं का भी प्रयोग किया जाता है ये दवाइयाँ भी डायबिटीज में बहुत फायदेमंद होती हैं लेकिन आप इन्हे चिकित्सक (वैध्य) की राय से ही सेवन करें-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है...  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

1 टिप्पणी:

AD_9913

Information on Mail

Loading...