19 मार्च 2018

दांतों में ब्रश करने का सही तरीका क्या है

What is the Right way to Brush Teeth


वैसे आपको हर बार खाना खाने के बाद दांतों (Teeth) में ब्रश करना चाहिए लेकिन ये संभव नहीं हो पाता है जैसे आफिस में लंच के बाद ब्रश करना नहीं हो पाता है तो आप सुबह और रात सोने के पहले अवश्य दांत में ब्रश करे और दांतों में ब्रश कम से कम तीन-चार मिनट अवश्य करें बस आप एक बात का विशेष ध्यान रक्खें कि दांतों में ब्रश हल्के हाथों से पूरे दांतों में घुमा कर करे आप इसे रगड-रगड कर बर्तन की तरह न मांजे क्युकि कई लोग बर्तन की तरह दांतों को मांजते है वो गलत तरीका है इससे आपके दांत घिस जाते हैं-

दांतों में ब्रश करने का सही तरीका क्या है

दांतों में ब्रश करने का सही तरीका क्या है-


दांतों को नीचे की ओर और नीचे के दांतों (Teeth) को ऊपर की ओर ब्रश करें तथा मुंह में एक तरफ से ब्रशिंग शुरू करके दूसरी तरफ तक जाएं आप बारी-बारी से हर दांत को साफ करें तथा दांतों और मसूड़ों के जोड़ों की सफाई भी ढंग से करें खाने के बाद अच्छी तरह कुल्ला करना चाहिए तथा उंगली या ब्रश से धीरे-धीरे मसूड़ों की मालिश करने से वे मजबूत होते हैं-

जीभ की सफाई (Tongue Cleaning) -


आप अपनी जीभ को ब्रश या Tongue Cleaner से साफ़ कर सकते है लेकिन इतना भी न रगड़ें कि जीभ जैसी नाजुक चीज से खून निकल आये फिर इन्फेक्शन होने खतरा भी रहता है-

आप कैसा ब्रश इस्तेमाल करें (How to Use Brush) -


आपका प्रयोग किया जाने वाला ब्रश मुलायम और आगे से पतला होना चाहिए आपके ब्रश के ब्रसल्स जब भी फैल जाने आप इसे अवश्य ही बदल दें-

टूथपेस्ट (Toothpaste) की क्या भूमिका है-


बाजार के टूथपेस्ट का इस्तेमाल मटर के दाने जितना ही ब्रश पे लेना पर्याप्त होता है क्युकि आपका टूथपेस्ट सिर्फ एक माध्यम ही है दांतों की सफाई में ब्रश का ही अहम रोल होता है टूथपेस्ट में अगर नमक या फ्लॉराइड है तो भी अधिक मात्रा में न लें-फ्लॉराइड कीड़ा लगने से बचाता है मिंट या लौंग वाला भी लाभदायक है ये आपके मुंह की सांस को एक ताजगी देता है-

क्या मंजन-पाउडर करते है-


आप टूथपाउडर और मंजन के इस्तेमाल से बचें ये टूथ पाउडर बेशक महीन दिखता है लेकिन माइक्रोस्कोप से देखे तो पता चलेगा कि ये काफी खुरदुरा होता है-टूथपाउडर करें तो उंगली से नहीं बल्कि मुलायम ब्रश से करें मंजन Teeth के इनेमल को घिस देता है-

देशी दातुन (Datun) -


नीम के दातुन में बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है लेकिन यह दांत को पूरी तरह साफ नहीं कर पाता है बेहतर विकल्प ब्रश ही है यदि दातुन करनी ही हो तो पहले उसे खूब अच्छी तरह चबाते रहें और जब दातुन का अगला हिस्सा नरम हो जाए तो फिर उसमें दांत धीरे-धीरे साफ करें-सख्त दातुन दांतों पर जोर-जोर से रगड़ने से दांत घिस जाते हैं-

माउथवॉश (Mouthwash) -


मुंह में अच्छी खुशबू का अहसास कराता है हाइजीन के लिहाज से अच्छा है लेकिन इसका ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए-

नींद में दांत पीसना (Sleep Bruxism) -


आपने देखा होगा कि कई लोग गुस्सा,तनाव और आदत की वजह से कई लोग नींद में दांत पीसते हैं इससे आगे जाकर उनके Teeth घिस जाते हैं इससे बचाव के लिए नाइटगार्ड यूज करना चाहिए-

स्केलिंग और पॉलिशिंग (Scaling and Polishing) -


दांतों पर जमा गंदगी को साफ करने के लिए स्केलिंग और फिर पॉलिशिंग की जाती है यह हाथ से और अल्ट्रासाउंड मशीन दोनों तरीकों से की जाती है-चाय-कॉफी,पान और तंबाकू आदि खाने से बदरंग हुए दांतों को सफेद करने के लिए ब्लीचिंग (Bleaching) की जाती है-दांतों की सफेदी करीब डेढ़-दो साल टिकती है और उसके बाद दोबारा ब्लीचिंग की जरूरत पड़ सकती है-

आप इसे भी ध्यान रक्खे-


1- अगर आपको कोई परेशानी नहीं है तो कैविटी के लिए अलग से चेकअप कराने की जरूरत नहीं है-

2- हर छह महीने में एक बार दांतों की पूरी जांच करानी चाहिए-

3- मुस्कुराहट से दांत की सुन्दरता बढती है-

4- तनाव दांत पीसने की वजह बनता है जिससे आपके दांत बिगड़ जाते हैं तथा तनाव से एसिड भी बनता है जो आपके दांतों को नुकसान पहुंचाता है-

बच्चों के दांतों की देखभाल (Dental Care) कैसे करें-


1- छोटे बच्चों के मुंह में दूध की बोतल लगाकर न सुलाएं-

2- चॉकलेट और च्यूइंगम न खिलाएं यदि खाएं भी तो तुरंत कुल्ला करें-

3- बच्चे को अंगूठा न चूसने दें इससे दांत टेढ़े-मेढ़े हो जाते हैं-

4- डेढ़ साल की उम्र से ही अच्छी तरह ब्रशिंग की आदत डालें-

5- छह साल से कम उम्र के बच्चों को फ्लोराइड वाला टूथपेस्ट न दें-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog 



Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...