This Website is all about The Treatment and solutions of General Health Problems and Beauty Tips, Sexual Related Problems and it's solution for Male and Females. Home Treatment, Ayurveda Treatment, Homeopathic Remedies. Ayurveda Treatment Tips, Health, Beauty and Wellness Related Problems and Treatment for Male , Female and Children too.

20 सितंबर 2018

कमर दर्द-पीठ दर्द-सायटिका व घुटनो के दर्द केे लिए प्रयोग

Use for  Waist Pain-Back Pain-Cytica and Knee Pain


कई लोगों को आजकल कमर दर्द (Waist Pain) पीठ दर्द-सायटिका व घुटनो के दर्द की शिकायत हो रही है तो मै आज आपके लिए एक अभ्यंगम दर्द निवारक तैल का प्रयोग बता रहा हूँ ये एक अक्सीर चिकित्सा प्रयोग है जिसके प्रयोग से तुरंत ही लाभ होता है-

कमर दर्द-पीठ दर्द-सायटिका व घुटनो के दर्द केे लिए प्रयोग

इस प्रयोग में (अभ्यंगम) दर्द निवारक तेल से मसाज की जाती है और उसके बाद (पिंड स्वेदनम) कल्क पोटली से मसाज की जाती है जिससे गर्मी व तेल तथा मसाज के गुण एक साथ मिलते है कमर दर्द (Waist Pain) पीठ दर्द (Back Pain) सायटिका (Cytica) व घुटनो का दर्द (Knee Pain) तुरंत गायब हो जाता है यह प्रयोग आप घर पर आसानी से कर सकते हैं व दर्द से राहत पॉ सकते हैं-

तैल (Oil) बनाने की विधि-


लहसुन- 50 ग्राम
अदरक- 50 ग्राम
मेथी दाना- 50 ग्राम
हल्दी- 50 ग्राम
एलोवेरा गुदा- 50 ग्राम
आक के पत्ते- 20 पीस
नीलगिरी के पत्ते- 30-40 पीस
तिल तैल- 500 ml
सरसो का तेल- 500 ml


बनाने की विधि- 


सबसे पहले आप रात को मेथी ओर हल्दी को 100ml पानी मे भिगो दें फिर सुबह बड़े पात्र में दोनों तैल (तिल व सरसों) तथा भिगोई मेथी के साथ डाले तथा अदरक, लहसुन को मोटा-मोटा कूट कर डाले और एलोवेरा गुदा और दोनों पत्तो को छोटे-छोटे टुकड़े इसी तैल में डाले-

अब इस सामग्री को आप 3 घण्टे तक पड़ा रहने दें और फिर तीन घंटे के बाद धीमी आंच पर पकाएं और जब सारा पानी जल जाए और सारी सामग्री तैल में पक कर कड़क हो जाए और तेल उबल जाए तब तक आप इसे पकाएं फिर ठंडा करके साफ बड़े कपड़े से इसे छान लें और छानने पर कपड़े में जो चूरा शेष बचे उसे उसी कपड़े में पोटली बांधकर किसी पात्र में सुरक्षित रख दे-


प्रयोग विधि-


अब आप दर्द वाले स्थान पर ऊपर बनाए गए तैल से मसाज करें तथा मसाज के बाद रक्खी हुई चूरे की पोटली को तवे पर हल्का गर्म करके दर्द के स्थान पर सेक करे-

इस पोटली में बंधे औषधि चुरा ओर उसमे बचा हुआ तेल सेक के दौरान त्वचा में आसानी से जब्ज हो जाता है और दर्द निवारण होता है-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

1 टिप्पणी:

  1. धन्यवाद डाक्टर सहाब, बहुत अच्छी फोस्ट है।
    मैं इससे पीडि़त हूं।

    उत्तर देंहटाएं

GET INFORMATION ON YOUR MAIL

Loading...