18 अगस्त 2017

पेट के रोगों में कारगर मुखवास बनायें

Makeing Mukhwas in Stomach Diseases


आजकल आमतौर भूंख की कमी, अरुचि, स्वाद ना लगना, खाने के बाद पाचन सही तरह से ना होना, डकारे, गैस, एसिडिटी, उल्टी, कब्ज, पेट दर्द तथा पेट मे भारीपन जैसी कई पाचन सम्बंधित समस्याए अब आम हो गई है जिसका एलोपैथी के पास कोई भी स्थाई इलाज या उपचार नहीं है किन्तु आयुर्वेद के पास इसका पक्का इलाज है और सस्ता सुलभ और घर पर बनाया जा सके और चाव से खाया जा सके ऐसा स्वादिष्ट इलाज है-

पेट के रोगों में कारगर मुखवास बनायें

भोजन के बाद मुख शुद्धि हेतु खाया जाने वाला मुखवास (Mukhwas) सिर्फ मुख शुद्धि ही नही करता बल्कि पेट की पाचनाग्नि को बढ़ाकर पाचन क्रिया को बढ़ाता भी है तथा यह स्वादिष्ट भी है जिससे अरुचि भी दूर होती है तथा बाजार में मिलने वाले विविध मुखवास से कई ज्यादा स्वादिष्ट ओर औषधीय गुण वाला भी है इसीलिए इसे घर पर ही बनाया जाना चाहिए-

मुखवास (Mukhwas) के लिए सामग्री-


बड़ी सौफ -100 ग्राम
सफेद तिल - 100 ग्राम
अजवाइन - 100 ग्राम
धनिया दाल - 100 ग्राम
अलसी - 100 ग्राम
अदरक का रस - 100 ml
नींबू का रस - 100ml
हल्दी - 20 ग्राम
सेंधा नमक - 40 ग्राम


मुखवास (Mukhwas) बनाने की विधि- 


सबसे पहले एक कांच के पात्र में अदरक के रस में हल्दी और 20 ग्राम नमक घोल ले अब उसमे बड़ी सौफ डालकर अच्छे से मिक्स करके धूप में रख दे फिर दूसरे पात्र में निम्बू के रस में 20 ग्राम नमक मिलाकर  घोल कर उसमे अजवाइन मिक्स करके धूप में रख दे-

यह दोनों चीजो को धूप में 2-3 रखकर जब पूरी नमी धूप से निकल जाए तब तक इसे रखना है जब सौफ और अजवायन सूखा हो जाए तब इसे हल्की आंच पर अच्छे से भून लें फिर अलग से तिल को फूलने तक सेकना है तथा अलसी को भी अलग से जब तक गुलाबी होकर थोड़ी फूल ना जाए तब तक सेंक लेना है अब धनिया दाल को आखरी में थोड़ा हल्का सा भून लें तथा इन सबको ठंडे होने तक किसी थाली में फैलाकर रखे और ठंडा होने पर सबको अच्छे से मिलाकर बोतल में भर कर रखे-


मात्रा- 


भोजन के बाद एक से डेढ़ चमच चबा चबा कर खाए इस प्रयोग से पेट और पाचन सँबंधित समस्त रोग दूर होते है और भूख भी खुलकर लगती है-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Chetna Kanchan Bhagat Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...