25 जनवरी 2018

चंदन के तेल के औषधीय गुण व प्रयोग


पिछले लेखों में हमने क्रमशः चंदन के गुण उपयोग व लाभचंदन के घरेलू प्रयोगचंदन के अनुभूत औषधीय प्रयोग तथा चंदन के आयुर्वेदिक प्रयोग के बारे में पढ़ा-आज हम आपको चंदन के तेल (Sandalwood Oil) के औषधीय गुण व प्रयोग के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे-

चंदन की लकड़ी तथा चंदन की जड़ों से तेल निकाला जाता है और इस तेल निकालने के लिए चंदन की लकड़ी व जड़ों को खूब महीन कुट लेते हैं फिर इसे दो से चार दिन तक पानी में भिगोकर रखते हैं उसके बाद डिस्टिलेशन मेथड से या इसकी भाप बनाकर इसका तेल निकालते हैं भाप होकर जो पानी टपकता है उसे एक अलग पात्र में भर लिया जाता है ठंडा होने पर इसके ऊपर तेल तैरने लगता है फिर तेल अलग करके कांच की शीशी में भर लिया जाता है-

एक किलो चंदन की लकड़ी से 100 ml तक तेल निकलता है यह तेल (Sandalwood Oil)  गाढा व रंगहीन होता है इसकी सुगंध बेहद अलहदक, मीठी व मनमोहक होती है तेल को निकालने के बाद इसे बोतलों में भर के अंधेरे कमरे में रखा जाता है जिससे तेल अधिक परिपक्व होता है इसकी सुगंध ज्यादा गाढी बनती है तथा यह सुरक्षित रहता है-

चंदन के तेल के औषधीय गुण व प्रयोग

चंदन के तेल (Sandalwood Oil) की उत्तम सुगंध के चलते इसे औषधि नहीं लेकिन सौंदर्य वर्धन के लिए भी सदियों से इस्तेमाल किया जाता है-

यह तेल मुख्यतः आयुर्वेदिक दवाई, कीमती इत्र, साबुन, मोमबत्ती, अगरबत्ती, धूप बत्तीहवन सामग्रीकॉस्मेटिक फेस पैक, क्रीम, लोशन तथा एयर फ्रेशनर में उपयोग होता है-

आयुर्वेद के मतानुसार चंदन तेल (Sandalwood Oil) उत्तम मूत्र जनन, मूत्र नलिका के इंफेक्शन हटाने वाला, मूत्रपिंड को उत्तेजित करने वाला, त्वचा दोष हरने वाला, कृमिघ्न तथा पित्तनाशक है-

चंदन के तेल के औषधीय गुण व प्रयोग

वही आधुनिक संशोधनों व रिसर्च के मुताबिक चंदन के तेल की सुगंध नर्वस सिस्टम को शांत करने वाली, थकान दूर करने वाली, एंजाइटी (Anxiety) को मिटाने वाली, मेंटल फोग को हटाने वाली, घबराहट (Palpitation) तथा चिड़चिड़ाहट को कम करने वाली, मानसिक बल देने वाली तथा मानसिक अवसाद (Mental depression) को मिटाने वाली है इसीलिए चंदन के तेल का उपयोग अरोमाथेरेपी में विशेष रुप से किया जाता है-

चंदन तेल (Sandalwood Oil) के औषधीय प्रयोग-

1- पेशाब की जलन, मूत्र का रुक रुक के होना तथा मूत्राशय की सूजन (Inflammation of the Bladder) जैसी तकलीफों में चंदन तेल की दो-दो बूंदे सुबह शाम दूध व मिश्री के साथ लेने से लाभ मिलता है-

2- खसरा या चेचक रोग (Chicken Pox) होने पर पहले ही दिन से चेचक के दानों पर चेचक के दाने सूखने तलक चंदन तेल लगाएं इससे चेचक मिटने पर त्वचा पर रहने वाले चेचक के दाग या गड्ढे नहीं रहते हैं व त्वचा मुलायम बनती हैं-

3- उष्माघात (Heat Stroke) या लू का प्रकोप होने पर चंदन तेल की एक-एक बूंद ठंडे दूध के साथ पीने से लू का प्रकोप तथा तृषा रोग शांत होता है-

4- नारियल तेल में चंदन के तेल (Sandalwood Oil) की 3 बूंदे डालकर सिर पर मसाज करने से थकान, सिरदर्द, माइग्रेन (Migraine) साइनस की तकलीफ तथा बालों का झड़ना जैसी समस्याओं में राहत मिलती है-

5- गर्मियों में अक्सर विद्यार्थियों में परीक्षा को लेकर टेंशन की वजह से तथा उष्माघात से कई समस्याएं देखने को मिलती है घबराहट, हड़बड़ाहट, पढ़ा हुआ याद ना रहना, आंखों का दर्द जैसी समस्याएं विद्यार्थियों में खासकर देखने को मिलती है ऐसे समय एक बताशे में दो बूंद चंदन तेल (Sandalwood Oil) की डालकर वह बतासे को पानी या दूध में घोलकर बच्चों को पिला कर परीक्षा में भेजने से बच्चों का मन शांत रहता है घबराहट दूर होती है तथा उपरोक्त परेशानियों में लाभ मिलता है-

6- वंशलोचन, कीकर, सफेद कत्था और छोटी इलायची सबको 12-12 ग्राम लेकर कूट-पीसकर महीन चूर्ण बना लें इस चूर्ण को 20 ग्राम चंदन के तेल में डालकर खरल में अच्छे से घोट ले फिर इसमें 1500 ml गुलाब की पंखुड़ियों का काढ़ा मिला कर कांच की बोतल में भर ले-इस औषधि को 20 ग्राम की मात्रा में दिन में दो से तीन बार लेने से सुजोक (Gonorrhea) तथा उपदंश जैसे रोगों में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है-

7- अनिंद्रा (Insomania) अशक्ति तथा धातु क्षय जैसी तकलीफों में 25 ग्राम पोस्ता दाना, 25 ग्राम बादाम, 25 ग्राम सौफ तथा दस बूंदे चंदन के तेल की मिलाकर चूर्ण बना लें इसे पांच से 6 ग्राम की मात्रा में गाय के दूध के साथ सोने से पहले लेने से अच्छी गहरी व शांत नींद आती है, शरीर की कमजोरी मिटकर शरीर बलवान बनता है तथा बालों का झड़ना कमजोर आंखे, आंखों के नीचे का कालापन दूर होकर चेहरे पर तेज व ताजगी भी आती है-

आप इसे भी देखे-
____________________________

चंदन के घरेलू प्रयोग

चंदन के उपयोग व लाभ

चंदन के अनुभूत औषधीय प्रयोग

चंदन के आयुर्वेदिक प्रयोग

विविध भस्मों के अनुभूत घरेलू प्रयोग

घुंघराले बालों के लिए आप घरेलू उपचार कर सकती हैं

आपके भी पैरों में खिंचाव होता है


विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog 

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...