18 अप्रैल 2018

स्तन का आकार कम होने की समस्या क्यों है

Why is Problem of Breast Size Decreasing


महिलाओं और युवतियों  के लिये छोटे स्तन (Small Breast) का आकार उनके लिये अत्यंत मायने रखता है जब कोई युवती माडलिंग आदि जैसे व्यवसाय आदि से जुड़ना चाहती है तो उसके लिये शारीरिक सौन्दर्य का बड़ा अंश उसके स्तन के साइज पर भी आधारित रहता है-

स्तन का आकार कम होने की समस्या क्यों है

महिलाओं के ब्रेस्ट का आकार यदि उसके शरीर के अनुपात में है तो सचमुच उसकी सुन्दरता (Beauty) में चार चांद लग जाते हैं कई बार जिन युवतियों के जल्दी-जल्दी बच्चे होते रहते हैं उनके स्तन (Breast) भी ढीले होकर लटक जाते हैं जो कि उनके सौंदर्य को प्रभावित करते हैं काफी महिलाएं अपने स्तनों की उचित देखभाल नहीं करती हैं-चूँकि स्त्री का स्तन एक ऎसा अंग है जो कि महिला की सुदंरता में चार चांद लगती है सदियों से महिलायें अपने ब्रेस्ट की खूबसूरती को लेकर जागरूक रही हैं-

अब आपका प्रश्न ये हो सकता है कि स्तनों को कैसे सुडौल बनाया जाए तो आपको ये पहले जानना आवश्यक है कि स्तन बेडौल क्यों और किन वजहों से होते हैं-


स्तन बेडौल क्यों होता है-


स्तन का आकार कम होने की समस्या क्यों है

1- गर्भवती होने पर स्तन में दूध बनना शुरू होता है जो स्तन के ढीले होने का एक अहम कारण है और माँ बनने के बाद महिला के शरीर पर कई प्रभाव पड़ते हैं जिनमे सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला हिस्सा ब्रेस्ट और पेट होता है माँ जब अपने बच्चे को दूध पिलाती है तब बच्चे की सेहत तो अच्छी होती है मगर उस स्त्री का स्तन ढीला होने लगता है-

2- जब किसी महिला को एक साल तक माहवारी के न होने को रजोनिवृत्ति या मेनोपॉज़ कहा जाता है मेनोपॉज़ किसी भी स्त्री के जीवन का वह समय है जब उसके अंडकोष की गतिविधियां समाप्त हो जाती हैं इसके होने से भी स्तन ढीला होने लगता है-

3- जब भी आपका वजन कम या ज़्यादा होता है तो उसका सीधा असर आपके स्तन पर दिखता है बहुत मोटा हो जाने पर भी और कमजोर हो जाने पर भी-दोनों अवस्था में ही प्रभाव आपके स्तन पर देखने को मिलता है-

4- पोषक तत्वों की कमी से स्तन को सही मात्रा में पोषण नई मिल पाता है महिला के स्तन बेडौल होने लगते है इसलिए आपको अपने स्तन की सुन्दरता बनाए रखने के लिए पोषक तत्वों से युक्त भोजन का सेवन अधिक करना चाहिए-

5- धूम्रपान, शराब या कार्बोनेटेड ड्रिंक्स जैसी चीजों का सेवन करने से स्तन में सही पोषक तत्व नही पहुँच पाते जिसके कारण वो बेडौल होने लगते है इसलिए आपको धूम्रपान, शराब या कार्बोनेटेड ड्रिंक्स जैसी चीजों से दूर ही रहना चाहिए-


एनलैजेंमेंट ब्रेस्ट सर्जरी-


जिन महिलाओं के छोटे स्तन होते है अधिकतर वे बहुत निराश (Frustrated) रहती है कुदरत के नियम के अनुसार स्तन महिला को एक देन है वहीं आजकल लडकियां स्तनों का मनचाहा आकार पाने के लिए एनलैजेंमेंट ब्रेस्ट सर्जरी (Anlarjment Breast Surgery) का सहारा लेने से भी नहीं चूक रही हैं-लेकिन क्या आप जानते हैं ब्रेस्ट इंप्लांट कराने से महिलाओं को ना सिर्फ कैंसर हो रहा है बल्कि उनकी मौत भी हो रही है-

छोटे स्तन (Small Breast) वाली महिलाएं ही सर्जरी के द्वारा ब्रेस्ट एंलार्जमेंट का ऑप्शन चुनती थीं लेकिन टाइम के साथ धीरे-धीरे इसमें काफी बदलाव आया है ब्रेस्ट एंलार्जमेंट सर्जरी के मामले में प्रत्येक महिला की स्थिति अलग-अलग होती है-

छोटे स्तन (Small Breast) के लिए अपनायें-


1- शरीर के अन्य भागों में मसाज कर उस हिस्से के मसल्स को स्ट्रांग बनाया जाता है ठीक उसी तरह स्तन को भी मसाज कर सुडौल बनाया जा सकता है आप रोजाना नहाने के बाद पर्याप्त रूप से स्तन की मसाज गोलाई से करें-

2- गरम ठंडे पानी से नहाना स्तन को सुडौल बनाने के लिए काफी असरदार उपाय है इस तरीके का लाभ लेने के लिए सबसे पहले स्तन पर गर्म पानी से 30 सेकंड तक शावर लें फिर उसके बाद 10 सेकंड तक ठंडे पानी से शावर लें आप इस ट्रिक को प्रयोग में लाते समय इस बात का ध्यान रखें हॉट और कोल्ड वाटर शावर के बीच कम से कम 3 सेकंड का अंतर हो और स्नान समाप्ति हमेशा ठंडे पानी से ही करें-यह तरीका स्तन में रक्त संचार ठीक करके उसे टाइट कर पहले से अधिक सुंदर और आकर्षक बनाने का काम करता है-

3- महिलाओं के लिए एक और भी जादुई फार्मूला है मगर इसे आप उस जगह करें जहाँ से आपको कोई अन्य न देखे आपके घर में ऐसा स्थान जहाँ पर सूर्य की किरण आती हो चूँकि विटामिन डी जो सूरज से मिलती है उससे स्तन का आकार तो बड़ा होता ही है साथ में ब्रैस्ट की स्कीन में चमक भी पैदा होती है आप सुबह-सुबह सूरज की किरणें नग्न स्तनों पर पड़ने दें तो कुछ ही दिनों आपको फर्क महसूस होने लगेगा-

4- जैसे कि गर्भ धारण के बाद के स्तनों और कैंसरग्रस्त स्तनों की पुनर्रचना आदि कुछ ऎसे कारण हैं जिनसे स्त्री का रूप-रंग खराब दिखता है ऎसे में स्त्री के स्तनों का आकार और स्वरूप को सुरक्षित और कारगर तरीके से ठीक करने के लिए सिलिकॉन जेल (Silicone Gel) आरोपण सबसे बढियां साधन है-

5- स्तन के डेवलपमेंट के लिए हार्मोनल असंतुलन (Hormonal Imbalance) भी एक आम वजह है जिसकी वजह से स्‍तन का आकार छोटा रहता है महिला के शरीर में अत्यधिक टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) का उत्पादन स्‍तन को बढ़ने से रोक देता है तो इसी टेस्‍टोस्‍टेरोन के उत्‍पादन को कम करने के लिये आपको फल और सब्‍जियां खानी चाहिये-साबुत अनाज जैसे- जौ, ब्राउन राइस और जई खाने से ब्रेस्‍ट का आकार बढ़ जाता है-

6- चिकन में एस्‍ट्रोजन पाया जाता है इसलिये अपनी डाइट में चिकन का प्रयोग करें और आप देखेंगी की कुछ ही दिनों में आपका ब्रेस्‍ट बढ जाएगा-

7- डेयरी प्रोडक्‍ट जैसे, दूध, दही और पनीर में एस्‍ट्रोजन अधिक मात्रा में पाया जाता है इसलिये आप इन्‍हें भी अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं-

8- छोला, लाल राजमा, मटर, सेम और मसूर में भी अत्‍यधिक मात्रा में एस्‍ट्रोजन पाया जाता है तो इन्‍हें अपने आहार में जरुर से जरुर  शामिल करें-

9- हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां जिसमें प्रोटीन और विटामिन अधिक मात्रा में पाया जाता है उन्‍हें खाने से ब्रेस्‍ट की कोशिकाओं का विकास होता है- 

10- चुकंदर, गोभी, फूलगोभी, फलियां, गाजर, प्याज, ककड़ी और कद्दू खाने से प्रोटीन मिलता है जिससे ब्रेस्‍ट का साइज बिल्‍कुल प्राकृतिक (Natural) तरीके से बढता है-

11- अंडा, प्रोटीन शेक, मछली , मीट और दूध में भी प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है और इसे भी खाने से ब्रेस्‍ट साइज बढता है-

12- चैरी, स्‍ट्रॉबेरी और जामून में एस्‍ट्रोजन पाया जाता है आप इन्‍हें अपनी डाइट में शामिल कीजिये-

13- ब्रोमाइन और मैगनीशियम शरीर में सेक्‍स हार्मोन बढाने का कार्य करते हैं-सेब, बादाम, भुट्टा, अदरक, लहसुन, प्रॉन, ब्राउन राइस और अखरोठ में ब्रोमाइन और मैगनीशियम पाया जाता है-इन्‍हें अपनी डाइट में शामिल कीजिये और प्राकृतिक तरीके से अपने ब्रेस्‍ट (Breast) को बढते हुए पाइये-

14- जितना हो सके अपनी दिनचर्या में कैफीन, कार्बोनेटेड ड्रिंक, नमकीन और जंक फूड का कम से कम इस्तेमाल करें-इसके अलावा रोजाना ढेर सारा पानी पीजिये तथा साथ ही ब्रेस्‍ट साइज बढाने के लिये तिल का बीज खाइये-

अगली पोस्ट- स्तन का आकार बढाने के लिए क्या करें

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog 

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...