8 मई 2018

स्त्रियों में कमर दर्द व थकान के लिए पौष्टिक लड्डू

Nutritious Laddus for Back Pain and Fatigue in Women


आजकल ज्यादातर महिलाओं में थकान, कमजोरी कमर दर्द (Back pain), एड्रिनल फटीग (Adrenal Fatigue) जैसी समस्याएं बहुतायत प्रमाण में देखी जाती है जिसे महिलाएं अक्सर अनदेखा करती है लेकिन जब परेशानी ज्यादा बढ़ जाती है तब डॉक्टर उन्हें विज्ञापनों में दिखाई जाने वाले हेल्थ टॉनिक या हेल्थ पाउडर के डिब्बे दूध में मिलाकर पीने की सलाह देते हैं जो अक्सर महंगे होते हैं और असरकारक भी नहीं होते जिससे पैसे का तो व्यय होता ही हैं लेकिन समस्याए भी ज्यों की त्यों बनी रहती हैं-

स्त्रियों में कमर दर्द व थकान के लिए पौष्टिक लड्डू

आज हम आपको इन सारी समस्याओं पर एक ऐसा आसान और अनुभूत व स्वादिष्ट उपाय बताने वाले हैं जो आप घर बैठे आसानी से बना सकते हैं तथा उपरोक्त समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं-

स्त्रियों में कमर दर्द व थकान का कारण-


लंबी बीमारी के बाद आई कमजोरी, प्रसूति के बाद होने वाली शरीर क्षीणता, हारमोनल बदलाव या वात दोष विकृति, अति परिश्रम या अति मैथुन, शरीर का दुबलापन (Debility) व कमजोरी, मानसिक अवसाद (Depression)कब्ज की वजह से शरीर में पोषण की कमी, इन सारे कारणों के चलते महिलाओं में कमजोरी थकान व कमर दर्द (Lumbar Pain) की शिकायत बनी रहती है-

इसके साथ ही साथ अनियमित महावारी या माहवारी में ज्यादा रक्तस्राव होने की वजह से भी शरीर कमजोर बनता है तथा कमर दर्द होने लगता है गर्भाशय की कमजोरी, अंडाशय में गांठ या सिस्ट (Ovarian Cyst), ज्यादा दिनों तक होने वाला श्वेत प्रदर (Leucorrhoea) जैसे कारणों की वजह से भी महिलाओं में कमर में दर्द तथा कमर व पेढू में भारीपन महसूस होने लगता है ऐसी समस्याओ में सिर्फ कैल्शियम सप्लीमेंट या हेल्थ टॉनिक लेने से कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि इन समस्याओं की असली वजह जब तक कम नहीं होती तब तक थकान (Exhaustion), कमजोरी (Weakness), कमर दर्द जैसी समस्याओं से मुक्ति नहीं मिल सकती-

स्त्रियों में कमर दर्द व थकान के लिए पौष्टिक लड्डू

आज हम आपको इन समस्याओं पर लाभदायक, पुष्टि दायक, स्वादिष्ट व पौष्टिक लड्डुओं के बारे में जानकारी देंगे जिसे बनाना बेहद आसान है इसे खाने से थकान (Exhaustion) कमजोरी दूर होती है, शरीर पुष्ट होता है, कमर दर्द व बदन दर्द दूर होता है तथा शरीर में कैल्शियम विटामिन जैसे पौष्टिक तत्वों की कमी भी दूर होती है-

पौष्टिक लड्डू बनाने की विधि-


सामग्री-

सौंठ- 10 ग्राम
काली मिर्च- 10 ग्राम
अकरकरा- 10 ग्राम
पीपली- 10 ग्राम
पिपरी मूल- 20 ग्राम
(अंसारीयो) हालो-  100 ग्राम
अश्वगंधा- 100 ग्राम
गोखरू- 100 ग्राम
ताल मखाना- 50 ग्राम
निर्गुंडी- 50 ग्राम
शतावरी- 50 ग्राम
जायफल- 10 ग्राम
जाविंत्री- 10 ग्राम
इलायची के दाने- 10 ग्राम
कंकोल- 10 ग्राम
चिरौंजी दाना- 100 ग्राम
पिस्ता- 100 ग्राम
बादाम- 100 ग्राम
भुने हुए छिलके सहित के देसी चने- 400 ग्राम
गाय का घी- 800 ग्राम
मिश्री या शक्कर-  800 ग्राम (सभी सामग्री आपको आयुर्वेद दवा बेचने वाले पंसारी से प्राप्त हो जायेगी)

बनाने की विधि-

चिरौंजी दाना, बादाम तथा पिस्ता को हल्के भून ले तथा ठंडा होने पर इसका दरदरा पाउडर बना लें फिर छिलके सहित भुने हुए चनों को थोड़ा भूनकर ठंडा करके छिलके के साथ ही पीस के आटा बना ले-

अब ऊपर बताई गई सारी औषधियों को बारीक पीसकर इनका कपड़छन चूर्ण बना ले तथा इन्हें साथ में मिला लें-

अब चने के आटे को 800 ग्राम घी में भूनकर 800 ग्राम मिश्री डालकर तथा अन्य औषधिया व सूखे मेवे डालकर 40 से 50 ग्राम भार के लड्डू बाँध ले-

सेवन विधी-

1- आप रोज सुबह एक लड्डू खाकर उपर से दूध पिए-

2- अगर शरीर कमजोर व दुबला पतला हो या फिर आपका वजन कम हो तो मुंग की आटे की राब में यह एक लड्डू मिलाकर सेवन करे-

लाभ-

1- इन लड्डुओं के सेवन से शरीर पुष्ट बनता है तथा शरीर के स्नायु मजबूत बनते हैं-

2- कमर दर्द नष्ट होता हैं , साइटिका का दर्दकूल्हों का दर्द या पैरों का दर्द मिटता है-

स्त्रियों में कमर दर्द व थकान के लिए पौष्टिक लड्डू

3- इन लड्डू के सेवन से शरीर को पोषण मिलता है, शरीर में बल आता है, थकान (Exhaustion) कमजोरी दूर होती है-

4- सुबह उठने के बाद होने वाली परेशानियां जिसमें सुस्ती (Dullness) उत्साह (Enthusiasm) की कमी, ताजगी की कमी, तथा तरावट की कमी दूर होती है-

5- इन लड्डू के सेवन से कैल्शियम, विटामिन तथा अन्य पौष्टिक तत्वों की कमी पूरी होती है जिससे शरीर को योग्य पोषण (Nourishment) मिलता है-

6- गर्भाशय संबंधित समस्या महावारी की समस्या तथा श्वेत प्रदर भी दूर होता है तथा स्त्रियों को शरीर में नया बल, ऊर्जा (Energy) व ताजगी महसूस होती है-

नोट-

आप इसे सुबह शाम खाना चाहे तो 30-30 ग्राम तक के छोटे आकार के लड्डू बनाए और भूने हुए चने की जगह आप बेसन का आटा भी ले सकती हैं लेकिन भूने हुए चने बेसन से कई ज्यादा पौष्टिक व सुपाच्य हैं-

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Upchar Aur Prayog 

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...