10 अगस्त 2018

बोगनवेलिया से होने वाले स्वास्थ्य लाभ


शर्वरी पारेख जो कि मेरी अच्छी सहेली तथा पेशेंट है उनको अचानक से अपने पति के साथ ऑस्ट्रेलिया जाकर बसने का मौका मिला इस खबर से शर्वरी तथा उनके परिवार वाले सदस्य काफी खुश और उत्साहित थे लेकिन ऑस्ट्रेलिया जाने के बाद शर्वरी अक्सर बीमार रहने लगी थी सभी ने तथा वहां के डॉक्टर ने भी यही सोचा कि जगह, देश तथा आसपास का माहौल बदलने की वजह से शर्वरी को यह सारी समस्याएं आ रही है तथा उसका किसी न किसी तरीके से इलाज भी जारी था छ महीने बाद भी उसकी हालत में कोई सुधार मालूम नहीं पड़ रहा था यदि एक बीमारी ठीक होती तो दूसरी हो जाती इन समस्या से शर्वरी की विदेश में बसने की सारी खुशी काफूर हो गई थी- 
बोगनवेलिया से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

वह अक्सर मुझसे बात करती तो कहती कितना सुंदर देश है इतना बड़ा घर है घर में बगीचा है फिर भी मुझे खुशी महसूस नहीं होती है कभी-कुछ न कुछ शारीरिक तकलीफ होती ही रहती है सबसे बड़ी बात कि वो वहां घरेलू नुस्खे भी आजमा नहीं सकती थी क्योंकि कुछ चीजें वहां आसानी से उपलब्ध नहीं थी एक दिन बात करते समय उसने मुझे अपने घर व बगीचे के फोटो दिखाएं और मैंने देखा कि उसके बगीचे में विविध रंगों में बोगनवेलिया की बेला काफी फली-फूली है तभी मैंने उससे कहा की तुम सुबह शाम बोगनविलिया (Bougainvillea) के फूलों की पंखुड़ियों की चाय (Tea) बनाकर पीयो-

उसे मेरी बात पहले तो उसे हास्यास्पद लगी उसे यकीन नहीं आया यह भी एक दवा हो सकती हैं लेकिन मेरे जोर देकर कहने पर उसने बात मानी और 15 दिन बाद उसने मुझे कहा कि उसकी ज्यादातर शारीरिक व मानसिक बीमारी कम हो गई है और उसने मुझे पूछा कि चाय (Tea) कितने दिन तक और जारी रखनी चाहिए तब मैंने उसको उसके शारीरिक वह मानसिक लक्षणों के अनुरूप बोगनवेलिया (Bougainvillea) की चाय पीने को कहा आज मैं आपको इस लेख में बोगनवेलिया की चाय पीने से होने वाले स्वास्थ्य लाभ के बारे में बतायेगें-

अक्सर बोगनवेलिया (Bougainvillea) को हम घरों के बाहर या बागीचों में एक सजावटी बेल के रूप में देखते आए हैं उसके कांटे होने की वजह से कुछ लोग इसे जंगली भी मानते हैं इसके फूल सफेद, लाल, गुलाबी, बैंगनी तथा नारंगी रंग के होते हैं दिखने में यह बेला बहुत खूबसूरत लगती है यह आसानी से लग भी जाती है और बहुत फूलती फालती भी है-

बोगनवेलिया से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

यह चाय डायरिया (Diarrhea) मिटाने का उत्तम उपचार है डायरिया से आई कमजोरी, थकान तथा डिहाइड्रेशन (Dehydration) को यह चाय (Tea) मिटाती है जिससे डायरिया के बाद की समस्याओं में आराम मिलता है बोगनवेलिया किन्हीं औषधिय गुणों से भरपूर है यह मासिक चक्र की अनियमितता, श्वेत प्रदर हेपेटाइटिस, कफ, सर्दी, जोड़ों के दर्द, रीड की हड्डी के दर्द, कमजोर नसे जैसी समस्याओं पर बेहद कारगर है बोगनवेलिया के पत्ते फूल तथा तना यह सभी औषधीय तत्वों से भरपूर है बोगनविलिया के पत्ते डायरिया को मिटाने की उत्तम दवा है तथा पेट में बड़ी हुई अम्लता तथा एसिडिटी को दूर करने में बेहद कारगर है यह डायबिटीज (Diabetes) नियंत्रित करने  में भी लाभदायक हैं इसका तना कफ, खांसी तथा गले के इन्फेक्शन (Throat infection) को मिटाने में उपयोगी है व बोगनवेलिया के फूल रक्तचाप (Blood pressure) को नियंत्रित करने में तथा तनाव (Stress) उदासीनता दूर करने में उपयोगी है-

यह अपच(Indigestion)की भी उत्तम दवा है- 


पाचन संस्थान की गड़बड़ी से अपच (Indigestion), खट्टी डकारें, पेट में वायु बनना, गुड़ गुड़ की आवाज आना, पेट का भारीपन, पेट दर्द जैससी शिकायतें बोगनवेलिया की चाय या पत्तियों का काढ़ा बनाकर भोजन के बाद पीने से दूर होती हैं-

यह काढ़ा आप स्टमक या पेट के अल्सर के लिए भी उपयोग कर सकते हैं यह सूजन तथा जलन को कम करता है अल्सर में इस चाय को ठंडा करके शक्कर मिलाकर शरबत की तरह पीने से पेट की जलन में भी राहत मिलती है तथा एसिडिटी व जी मिचलाना जैसी समस्याओं से निजात पाई जा सकती है-

यह चाय डायरिया मिटाने का उत्तम उपचार है डायरिया से आई कमजोरी लो BP थकान तथा डिहाइड्रेशन को यह चाय मिटाती है जिससे डायरिया के बाद की समस्याओं में आराम मिलता है-


कैसे करे प्रयोग-


अल्सर, पेट के अल्सर, मुंह के छाले, त्वचा पर पड़ने वाले रेषेस, हॉटफ्लैशस, हाथ पैरों के तलवों की जलन, आंखों की जलन, पेट की जलन, हाइपर एसिडिटी, भोजन के बाद छाती में जलन होना, मूत्र में जलन होना, मल त्याग के बाद गुदाद्वार में जलन होना जैसी गर्मी संबंधित समस्याओं में बोगनवेलिया के बीस फूल लेकर उसकी पंखुड़ियां अलग करके अच्छे से धो कर उसे एक से डेढ़ लीटर पानी में कांच के बर्तन में डुबोकर रात को चंद्रप्रकाश उस बर्तन पर पड़े इस तरीके से रख दे सारी रात रखने के बाद सुबह यह पानी छानकर किसी दूसरे बर्तन में भर लें अब यही पानी पूरे दिन में पीना है यह पानी बेहद शीतल और एसिडिटी को कम करने वाला होता है इससे गर्मी तथा एसिडिटी से होने वाली समस्त तकलीफों में राहत मिलती है आप चाहें तो इसमें मिश्री मिलाकर भी पी सकते हैं


कैसे बनाएं बोगनविलिया की चाय-


बोगनवेलिया के किसी भी रंग के फूल- 25 पीस (धोकर पंखुड़ियां अलग किए हुए)
पानी- दो कप 
दालचीनी का टुकड़ा- आधा इंच 
शहद अथवा मिश्री- एक बड़े चम्मच 

बनाने की विधि- 


पानी को दालचीनी डालकर उबालें जब उबाल आ जाए तब उसने बोगनवेलिया की पंखुड़ियां डालकर वाले उबालें इसे जब एक कप बच्चा है बच जाए तब छानकर शहद या मिश्री मिलाकर पिए-

इस चाय से डायबिटीज, अपचन, अजीर्ण, गैस, जोड़ों के दर्द ,बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल, बढ़ा हुआ डायबिटीज, लो बीपी, या हाई बीपी जैसी समस्याएं कम होती है-

यह चाय शरीर की सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने में मदद करती है तथा मौसम के बदलाव से शरीर में आए बदलाव तथा बीमारियों से रक्षा करती हैं एक तरह से हम यह भी कह सकते हैं कि यह हमारी जीवन रक्षक प्रणाली या रोगप्रतिकारक शक्ति को दृढ़ बनाए रखती हैं सांस लेने में कठिनाई, सर्वाइकल का दर्द, रीड की हड्डियों की जकड़न, सर्दी, जुखाम, आलस्य, गले में सूजन, टॉन्सिल्ससाइनस जैसी बीमारियों में बोगनवेलिया की चाय बेहद कारगर है

यही नहीं बोगनवेलिया शारीरिक ही नहीं किंतु मानसिक परेशानियों में भी बेहद उपयोगी हैं यह शरीर तथा मन की रुकावटों को दूर करती हैं यानि मानसिक इमोशनल ब्लॉक ,भावनात्मक रुकावटों को सुचारु करके हमारे मन तथा शरीर में संतुलन पैदा करती है तथा मानसिक अवसाद, चिंता, असुरक्षितता, अकेलेपन, निराशा, व्याकुलता, हीन भावना जैसी भावनात्मक समस्याओं में भी बेहद लाभदायक है..

आप बोगनवेलिया के अलग अलग रंग के फूलों को अच्छे से धो कर उस की पंखुड़ियां अलग करके वह पंखुड़ियों को छाया में सुखाकर रख सकते हैं व इसका प्रयोग जब जरूरत पड़े तब कर सकते हैं एक कप चाय बनाने के लिए आपको दो से ढाई चम्मच तक सुखी पंखुड़ियां लेनी है इसे आप अपने तरीके से अपनी रोजमर्रा की चाय में या शर्बत में मिलाकर भी पी सकते हैं तथा बोगनविलिया के स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं-

देखे-  कैसा भी दर्द हो कामयाब नुस्खा है आधे घंटे में राहत


विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है...  धन्यवाद। 

Chetna Kanchan Bhagat Mumbai


Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...