28 अगस्त 2018

अमरूद के सेवन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ


सर्दियों में होने वाले फलों में अमरूद (Guava) बेहद लोकप्रिय तथा सस्ता फल है किन्तु अक्सर लोग इसे बच्चों के खाने लायक समझ कर इससे अन्य फलों की तुलना में कम खाते हैं लेकिन अगर इसमें रहे हुए पोष्टिक तत्वो तथा औषधीय गुणों के बारे में अगर आपको बताया जाए तो महंगे फल छोड़ कर आप अवश्य ही अमरूद (Guava) खाना पसंद करेंगे-

अमरूद के सेवन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

इस लेख में हम अमरुद के पौष्टिक व औषधीय गुण, अमरुद के सेवन के तरीके तथा अमरुद खाने से होने वाले स्वास्थ लाभ के बारे में चर्चा करेंगे-

अमरूद के सेवन से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

अमरुद स्वाद रस में कषाय, मधुर, खारा तथा गुणों में वीर्य को बढ़ाने वाला, कफ करने वाला, तथा वात व पित्त का शमन करने वाला है अमरूद (Guava) की तासीर अत्यंत ठंडी है इसीलिए ज्यादा मात्रा में अमरुद खाने से वायु बढ़ता है, अतिसार होता है, तथा ज्वर भी आता है अमरुद स्वादिष्ट, मधुर, ग्राही, थोड़ा सा खारा व कशाय, तीक्ष्ण, भारी, पित्त नाशक, उन्माद नाशक, पित्तशामक, वीर्यवर्धक, रुचिकारक, त्रिदोष नाशक तथा दाह, भ्रम,और मुरछा को मिटाने वाला है-

किन लोगों ने खाने चाहिए अमरूद (Guava)-


1- अमरुद, सात्विक, मेघ्य तथा बुद्धिवर्धक (BrainTonic) है इसीलिए पढ़ने वाले बच्चे तथा दिमागी कार्य करने वाले बुद्धिजीवी व्यक्तियों ने अवश्य खाने चाहिए-

2- जिन बच्चों की ग्रास्पिंग पावर (Grasping power) या आकलन शक्ति कम हो पढ़ा हुआ याद ना रहता हो ऐसे बच्चों ने साल में एक बार 15 से 20 दिन तक लगातार किसी भी रुप में अमरूद (Guava) का सेवन अवश्य करना चाहिए-

3- बार बार ज्वर या विषम ज्वर (Fever) से पीड़ित रोगीयों ने प्रतिदिन अमरुद (Guava) खाने से बेहद फायदा होता है इसे विषमज्वर के जंतुओं का नाश होता है तथा ज्वर आना बंद हो जाता है-

4-जिन्हें कब्ज़ (Constipation) रहती हो ऐसे रोगियों ने अमरूद (Guava) का प्रयोग किसी भी रुप में करना हितकर माना गया है-

5- अमरूद पचन संस्था (Digestive System) को सुचारु करके रक्त संचार बढ़ाता है जिसे मस्तिष्क तक खून का दौरा अच्छे से होता है जिससे मस्तिष्क की कार्य क्षमता बढ़ती है मानसिक तनाव,स्ट्रेस (Stress) जैसी समस्याएं दूर होती है इसलिए एसी समस्याओं से ग्रस्त लोगो ने अपने भोजन में अमरुद (Guava) का समावेश जरुर करना चाहिए-

6- अमरूद (Guava) ब्लड प्रेशर (Blood pressure) तथा कोलेस्ट्रॉल लेवल को भी संतुलित रखने में हितकर है इसीलिए वयस्क व्यक्तियों ने अमरूद का सेवन करना लाभकारी माना गया है-

7- यूनानी हकीम हकीमों के मतानुसार उन्माद पागलपन जैसे दिमागी कमजोरी या बीमारियों से पीड़ित व्यक्तियों ने अमरुद (Guava) अवश्य खाने चाहिए ऐसे व्यक्तियों ने उनकी इच्छा अनुसार प्रतिदिन दो से तीन अमरुद अवश्य खाने चाहिए-


कैसे करें अमरूद (Guava) का सेवन-


अमरुद का सेवन  अगर योग्य तरीके से किया जाए तो यह उत्तम लाभ देता है अमरूद खाने का उत्तम समय दोपहर के भोजन के बाद का है दोपहर को भोजन के बाद एक 2 घंटे बाद एक से दो पके हुए अमरुद (Guava) खाने से शरीर में जरूरी पौष्टिक तत्वों की आपूर्ति होती है अमरूद सुबह खाली पेट खाने से वायु को बढ़ाता है तथा मल को उत्सर्जित करता है इसलिए कब्ज वालों ने सुबह खाली पेट अमरुद खाना हितकर माना गया है-

किस तरह करें अमरूद (Guava) का सेवन-


1- पके हुए अमरुद को काटकर उस पर काली मिर्च सेंधा नमक डालकर खाने से अमरुद का वात व कफ बढ़ाने वाला गुण कम होता है तथा अगर ज्यादा मात्रा में भी अमरुद खा लिया जाए तो भी परेशानी नहीं होती है-

2- अमरूद (Guava) की घी, जीरे व हरी मिर्ची की छौक लगाकर सब्जी भी बनती है यह सब्जी अरुचि तथा अग्निमांध में बेहद उपयोगी है-

3- अमरूद की चटनी व रायता भी बनता है जो स्वादिष्ट होने के साथ साथ भोजन पचाने में उपयोगी है-

4- अमरुद (Guava) के गूदे को मसलकर उसने गुलाब जल या केवड़ा जल या थोड़ी सी इलायची का चूर्ण तथा मिश्री मिलाकर शरबत बनाया जाता है यह शरबत तृषा नाशक तथा पित्तशामक है-

5- जैम या मुरब्बा बनाकर इसे भोजन में खाने से हृद्यरोग, कोलेस्ट्रॉल, आंखों की कम रोशनी, कमजोरी, चिड़चिड़ाहट, चिंता, अवसाद जैसी बीमारियों में उत्तम लाभ पाया जा सकता है-

6- इस तरह हमने अमरूद के औषधीय व पौष्टिक गुण तथा अमरुद के सेवन के योग्य तरीके और अमरूद खाने से होने वाले स्वास्थ्य लाभ की चर्चा की है अब आपको अगले लेख में अमरूद के अनुभूत औषधीय प्रयोग के बारे में बताएंगे-

इसे भी देखें- अमरूद के अनुभुत औषधीय प्रयोग

विशेष सूचना-

सभी मेम्बर ध्यान दें कि हम अपनी नई प्रकाशित पोस्ट अपनी साइट के "उपचार और प्रयोग का संकलन" में जोड़ देते है कृपया सबसे नीचे दिए "सभी प्रकाशित पोस्ट" के पोस्टर या लिंक पर क्लिक करके नई जोड़ी गई जानकारी को सूची के सबसे ऊपर टॉप पर दिए टायटल पर क्लिक करके ब्राउज़र में खोल कर पढ़ सकते है....

किसी भी लेख को पढ़ने के बाद अपने निकटवर्ती डॉक्टर या वैद्य के परमर्श के अनुसार ही प्रयोग करें-  धन्यवाद। 

Chetna Kanchan Bhagat Mumbai

Upcharऔर प्रयोग की सभी पोस्ट का संकलन

loading...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Information on Mail

Loading...