Benefits of Catwalk Exercise-कैटवॉक व्यायाम के लाभ

कैटवॉक व्यायाम के लाभ (Benefits of Catwalk Exercise)-


यह तो बात हम सभी जानते हैं कि चलना (Walking) एक स्वाभाविक व आवश्यक जीवन उपयोगी क्रिया है एक उत्तम व्यायाम (Exercise) भी है। ऐसा कहा जाता है कि जो चलता रहता है वही स्वस्थ रहता है। मतलब ये है कि चलना यह शब्द जहां चुस्ती-फुर्ती तथा स्वास्थ्य दर्शाता है वहीं वहीं रुकना शब्द बीमारी तथा गड़बड़ी का सूचक है। 


Benefits of Catwalk Exercise-कैटवॉक व्यायाम के लाभ

आजकल हेल्थ क्वंशियास लोग मॉर्निंग वॉक (Morning Walk) ब्रिस्क वाक, ट्रेडमिल जैसी कई चलने संबंधित व्यायाम करके अपना स्वास्थ्य (Health) बनाए रखते हैं विशिष्ट तरीके से अगर चला जाए तो अनेक रोगों में यह व्यायाम बेहद लाभदायक सिद्ध होता है। आज हम आपको चलने की एक ऐसे ही तकनीक बताएंगे जो शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहद उपयोगी है। 

आज हम आपको कैटवॉक (Catwalk) के स्वास्थ्य पर होने वाले लाभ के बारे में बताएंगे कैटवॉक रैंप वॉक या रेम्प वोक यह हम रोजाना TV पर मॉडलिंग करते लोगों को कैटवॉक करते देखते हैं। लेकिन हम इस बात से अनजान है कि कैटवॉक एक उत्तम स्वास्थ्य वर्धक व्यायाम (Exercise) भी है। 

कैटवॉक कैसे करें (How to do Catwalk)-


Benefits of Catwalk Exercise

कैटवॉक (Catwalk) के लिए व्यायाम करने के लिए सपाट एडी के जूते पहनकर या नंगे पैर समतल जमीन पर चलना चाहिए। इसके लिए जमीन पर एक रेशा निर्धारित करें तथा चलते समय दोनों पैरों के पंजे एक के पीछे एक चित्र में दिखाए गए अनूसार उसी रेखा पर पडे यह निर्धारित करें।  याने की चलते समय पंजे आगे पीछे तो हो लेकिन टेढ़े-मेढ़े ना होकर एक ही रेशा में हो शुरुआत में कैटवॉक काफी थका देने वाला तथा पैरों को दुखादेने वाला लगता है। लेकिन कुछ ही दिनों के अभ्यास से आप सरलता से इसे कर सकते हैं। 

कैटवॉक के फायदे (Benefits of catwalk Exercise)-


जब आप कैटवॉक (Catwalk) की प्रैक्टिस करेंगे तब आप पाएंगे की कैटवॉक से नाभि पर तथा कमर पर जोर पड़ता है याने नैसर्गिक रूप से कमर तथा नाभि के आसपास खून का रक्त संचार (Blood circulation) बढ़ता है। इससे पाचन संबंधी बीमारी दूर होती है-बढ़ा हुआ पेट (Tummy Tuck) कम होता है। कैटवॉक (Catwalk) से कमर दर्द (Back Pain) स्लिप डिस्क (slip disc) जैसी बीमारी में राहत मिलती है।

कैटवॉक करने से पैरों की क्रिस क्रॉस एक्शन होती है। जिससे पैरों की नसों पर दबाव पड़ता है यानी पैरों की नसों पर रक्त संचार बढ़ता है।जिससे कम समय में ही लंबी दूरी चले हो इतना फायदा मिलता है तथा घुटनों का दर्दसाइटिकाएड़ी का दर्दपैरों के स्नायु (Leg Muscles), पांव का दर्द, जैसी समस्याओं में आराम मिलता है। कूल्हों के दर्द (Buttock Pain) तथा उठने बैठने में होने वाली तथा समस्याओं में आराम मिलता है। 

कैटवॉक व्यायाम (Catwalk Exercise) करते समय नाभि पर जोर पड़ने से नाभि चक्र (Belly) उत्तेजित होता है। नाभि को हमारा केंद्र माना गया है। अगर नाभि सही ना हो तो हमें पाचन संबंधित समस्याओं तथा थकानकमजोरीहार्मोंस का असंतुलन (Hormonal Dis balance) जैसी कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन कैटवॉक (Catwalk) करने से नाभि चक्र जागृत रहता है। जिससे हमारा पाचन तंत्र सुधरता है लिवर बूस्ट होता है, पैंक्रियास कार्यशील होता है जिससे थकानअनिंद्राडायबिटीजआलस्यडिप्रेशन जैसी समस्याओं में राहत मिलती है। 

जब क्रिस क्रॉस तरीके से कदम से कदम बढ़ाए जाते हैं तब मस्तिष्क को अलर्ट रहने के सिग्नल मिलते हैं। क्योंकि इस तरह का चलना हमारे मस्तिष्क के लिए आदतन नहीं होता है। इस तरह की एक्सरसाइज से मस्तिष्क अलर्ट होता है।  जिससे एकाग्रता बढ़ती है, याददाश्त बढ़ती है तथा स्ट्रेस व डिप्रेशन कम होता है। नाभि चक्र पर दबाव पड़ने से हार्मोन संतुलित होते हैं तथा लिवर उत्तेजित होने से तथा हैप्पी हार्मोन सीक्रेट होने से हमें उदासीनता दूर हो कर प्रसन्नता मिलती है। 

कैटवॉक (Catwalk) से हमारा आत्मविश्वास बढ़ता है तथा बॉडी लैंग्वेज भी सुधरती है व शरीर में चुस्ती-फुर्ती आती है। प्रतिदिन दूसरे व्यायाम के साथ 15 मिनट से आधे घंटे तक सेट वॉक करने से ऊपर लिखे गए सारे लाभ हमें मिल सकते हैं। 

विद्यार्थी तथा फ्रंट डेस्क पर काम करने वाले लोगों ने तथा प्रेजेंटेशन देने वाले लोगों ने यह व्यायाम खास तौर पर करना चाहिए। इससे बॉडी लैंग्वेज सुधर के आत्मविश्वास बढ़ता है। फोकस बढ़ता है तथा हमारा पोश्चर ज्यादा प्रेजेंटेबल बनता है। जिससे हमें शारीरिक, मानसिक लाभ के साथ-साथ अच्छे कॉन्प्लीमेंट भी मिलते हैं व हमारा व्यक्तित्व विकास भी होता है। 

1 टिप्पणी:

Loading...