Ayurvedic Remedies for Weakness-दुर्बलता के लिए आयुर्वेदिक उपचार

Ayurvedic Remedies for Weakness-दुर्बलता के लिए आयुर्वेदिक उपचार


Debility Reasons and Ayurvedic Treatment
Ayurvedic Medicine for Weakness Body
Muscle Weakness Symptoms
Muscle Weakness Treatment
Weakness in Body Home Remedies
Medicine for Weakness in Body
Weak Muscles all over Body

अधिकतर लोग Weight (वजन) को लेकर चिंताग्रस्त रहते है आपको जानना आवश्यक है कि आपकी Weakness (दुर्बलता) का क्या कारण है इस लेख में हम आपको अवगत कराने का प्रयास करेगे कि आप घरेलू और Ayurvedic (आयुर्वेदिक) तरीके से आप अपना वजन कैसे संयमित रख सकते है। 

Weakness in Body Home Remedies

वजन बढ़ाने के लिए सबसे पहले तो आपका फिट रहना जरूरी है यदि आप Weight Gain (वजन बढ़ाना) चाहते हैं इसका ये अर्थ नहीं कि आप फिजीकली बिल्कुल भी सक्रिय नहीं होंगे आपको Exercise (व्यायाम) करना तब भी जरूरी होगा। 

What to do for Weakness-दुर्बलता के लिए क्या करें


Weight Increase (वजन बढ़ाने) के लिए सबसे बढि़या उपाय है आप High Calorie (हाई कैलोरी) का खाना खाएं तथा उन खाद्य पदार्थों का सेवन ज्यादा करें जिनमें कैलोरी की मात्रा अधिक हो लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि आप Junk Food (जंकफूड) भारी मात्रा में खाने लगे बल्कि आपको Healthy (हेल्दी) और हाई कैलोरी भोजन को प्राथमिकता देनी हैं अगर आप अपना वजन हेल्दी रूप से बढ़ाना चाहते हैं तो आपको सुबह का नाश्ता भी हेवी करना होगा। 

Ayurvedic Medicine for Weakness Body-शरीर की कमजोरी लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा


Chyawanprash (च्यवनप्राश) भी वजन बढ़ाने के लिए Ayurvedic Medicines (आयुर्वेदिक औषधी) है और यह लगभग सभी के लिए आमतौर पर भी हेल्दी रहता है इससे न सिर्फ शारीरिक उर्जा बढ़ती है बल्कि Metabolism (मेटाबोलिज्म) भी मजबूत रहता है Shatavari Kalpa (शतावरी कल्प) लेने से न सिर्फ आंखें और मसल्स अच्छी रहती है बल्कि इससे वजन भी बढ़ता है Basant Kusumkar Ras (वसंतकुसुमकर रस) शरीर को न सिर्फ आंतरिक उर्जा देता है बल्कि Weight Increase में भी लाभकारी है। 

What is the Reason for Weakness-दुर्बलता होने का क्या कारण है


1- जिसकी Digestion Power (पाचन शक्ति) में गड़बड़ी है वह व्यक्ति अधिक दुबला हो सकता है तथा मानसिक, भावनात्मक तनाव, चिंता की वजह से भी व्यक्ति दुबला हो सकता है और यदि शरीर में Hormones Unbalanced (हार्मोन्स असंतुलित) हो जाए तो व्यक्ति दुबला हो सकता है। 

2- Metabolic Activity (चयापचयी क्रिया) में गड़बड़ी हो जाने के कारण व्यक्ति दुबला हो सकता है कभी-कभी बहुत अधिक या बहुत ही कम व्यायाम करने से भी व्यक्ति दुबला हो सकता है। 

3- आंतों में Tapeworm (टेपवर्म) या अन्य प्रकार के कीड़े हो जाने के कारण भी व्यक्ति को Debilitating Disease (दुबलेपन का रोग) हो सकता है।


4- Diabetes (मधुमेह), क्षय, Insomnia (अनिद्रा), Liver (जिगर), Old Diarrhea (पुराने दस्त) या Constipation (कब्ज) आदि रोग हो जाने के कारण व्यक्ति को दुबलेपन का रोग हो जाता है।

5- शरीर में Anemic (खून की कमी) हो जाने के कारण भी Debilitating Disease (दुबलेपन का रोग) हो सकता है।

Ayurvedic Home Remedies For Weakness-दुर्बलता के लिए आयुर्वेदिक घरेलू उपाय


1- सबसे पहले आप अपनी डाइट में Carbohydrate (कार्बोहाइड्रेट) और Healthy Fat (हेल्दी फैट्स) की मात्रा बढ़ाएं अध‌िक कैलोरी वाली डाइट जैसे रोटियां, रेड मीट, राजमा, सब्जियां, मछली, चिकन, ऑलिव्स और केले जैसे फल आदि की मात्रा बढ़ाएं तथा दिन में कम से कम पांच बार थोड़ी-थोड़ी डाइट लें। 

Ayurvedic Remedies for Weakness-दुर्बलता के लिए आयुर्वेदिक उपचार

2- क्या आप जानते है कि Walnut (अखरोट) में आवश्यक Monounsaturated fat (मोनोअनसेचुरेटेड फैट) होता है जो स्वस्थ कैलोरी को उच्च मात्रा में प्रदान करता है यदि आप रोज़ 20 ग्राम अखरोट खाते है तो आपका Weight (वजन) तेजी से बढेगा। 

3- भोजन में Protein (प्रोटीन) की मात्रा बढाएं तथा दालों में प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है अडा, मछली, मीट भी प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं या Almond (बादाम), Cashewnut (काजू) का नियमित सेवन करें-काजू स्वस्थ काया पाने का आसान तरीका है काजू के तेल में न केवल Weight Gain (वजन बढ़ाने) बल्कि काजू रोज़ खाने से आपकी त्वचा कोमल और बाल चमकदार दिखने लगेगी। 

4- च्यवनप्राश वजन बढाने की और स्वस्थ रहने की मशहूर Ayurvedic Medicine (आयुर्वेदिक औषधि) है आप इसे सुबह-शाम दूध के साथ सेवन करते रहें।

5- आयुर्वेद में Ashwagandha (अश्वगंधा) और Shatavari (शतावरी) के उपयोग से वजन बढाने का उत्तम योग है आप इसे बराबर 3-3 ग्राम दोनों मिलाकर रोज सुबह लें ये चूर्ण दूध के साथ प्रयोग करें तथा Vasant Kusumakar Ras (वसंतकुसुमाकर रस) भी काफ़ी असरदार  दवा है। 

6- आप रोज सुबह 3-4 किलोमीटर घूमने का नियम बनाएं इससे आपको ताजा हवा भी मिलेगी और आपका Metabolism (मेटाबोलिज्म)  भी ठीक रह्र्गा और भोजन खूब अच्छी तरह से चबा चबा कर खाना चाहिये क्युकि दांत का काम आंत पर डालना उचित नहीं है तथा आप दोनों वक्त शोच निवृत्ति की आदत डालें। 

7- 50 ग्राम Raisins (किशमिश) रात को पानी में भिगो दे  सुबह भली प्रकार चबा चबा कर खाएं इसके लगातार दो-तीन माह के प्रयोग से आपका वजन बढेगा चूँकि किशमिश में अनाज की 99 % कैलोरी पायी जाती है और फाइबर भी बहुत अच्छी मात्रा में पाया जाता है ये शरीर के फैट को हटा के स्वस्थ कैलोरी में परिवर्तित करता है। 

8- मलाई-मिल्क क्रीम में आवश्यकता से ज्यादा Fatty acids (फैटी एसिड) होता है और ज्यादातर खाद्य उत्पादों की तुलना में अधिक कैलोरी की मात्रा होती है मिल्क क्रीम को पास्ता और सलाद के साथ खाने से Weight Increase होगा। 

9- नाश्ते में Almond (बादाम), Milk (दूध), Butter (मक्खनGhee (घी) का पर्याप्त मात्रा में उपयोग करने से आप तंदुरस्त रहेंगे और वजन भी बढेगा। 

10- यदि आपको तुरंत वजन बढाना हो तो आप Banana (केला) खाइये-रोज़ दो या दो से अधिक केले खाने से आपका पाचन तंत्र भी अच्छा रहेगा आप अच्छा होगा कि केले को दूध में फेट के ले सकते है। 

11- Potato (आलू) कार्बोहाइड्रेट और काम्प्लेक्स शुगर का अच्छा स्त्रोत है आलू ज्यादा खाने से शरीर में फैट की मात्रा बढ़ जाती है-

12- Coconut oil (नारियल का तेल) को खाने में प्रयोग लें यह आहार तेलों का समृद्ध स्रोत है और भोजन के लिए अच्छा तथा स्वादिस्ट जायके के लिए जाना जाता है तथा नारियल के तेल में भोजन पकाने से खाने में Calories (कैलोरी) बढ़ेगी जिससे आपके वजन में वृधि होगी। 

13- जो लोग शाकाहारी है और नॉनवेज नहीं खाते उनके लिए Beans (बीन्स) से अच्छा कोई विकल्प नहीं है चूँकि बीन्स के एक कटोरी में 300 कैलोरी होती है यह सिर्फ वजन बढ़ने में ही मदद नहीं करता बल्कि Nutritious (पौष्टिक) भी होता है। 

14- Butter (मक्खन) में सबसे ज्यादा कैलोरी पाई जाती है मक्खन खाने के स्वाद को सिर्फ बढ़ाता ही नहीं बल्कि वजन बढ़ाने में भी मदद करता है। 

15- Brown Rice (ब्राउन राइसCarbohydrate (कार्बोहाइड्रेट) और Fiber (फाइबर) की एक स्वस्थ खुराक का स्रोत है भूरे रंग के चावल कार्बोहाइड्रेट का भंडार है इसलिए नियमित रूप से इसे खाने से वजन तेजी से हासिल होगा। 

16- Olive oil (जैतून के तेल) में आवश्यक कैलोरी बहुत बड़ी मात्रा में पाई जाती है और यह Heart Disease (हृदय रोग) से लड़ने में भी बहुत मदद करता है। 

17- Ashwagandha Avaleha (अश्वगंघा अवलेह) को पानी और दूध से लेने से जल्दी असर करता है और Weight Management (वजन प्रबंधन) में भी मदद करता है इसका चूर्ण दूध, घी या शहद से लेने में भी असरकारक है-द्राक्षारिष्ट को लगातार एक महीने को गर्म और ठंडे पानी में शहद मिलाकर लेने से अच्छा रहता है इन आयुर्वेदिक औषधियों को लेने से कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा और आप आराम से अपना वजन भी बढा़ सकते हैं। 

Ayurvedic Digestive Powder of Weakness-कमजोरी का आयुर्वेदिक पाचन का चूर्ण


Harad (छोटी हरड),  Baheda (बहेडा), आँवला,  Dry Ginger (सोंठ), Peeper (पीपर), Black Pepper (कालीमिर्च),  Black Salt (काला नमक) ये सब 20-20 ग्राम असली Asafoetida (हींग) दो ग्राम सब कूट पीस कर रख लें पाचक चूर्ण तैयार है खाना सोने से 2 घंटे पहले चूर्ण थोडे गुनगुने पानी से लें। 

Click Here-

Upchar और प्रयोग की सभी पोस्ट

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Loading...