Accumulation of Uric Acid Crystal in Joint-यूरिक एसिड क्रिस्टल का ज्वाइंट में जमा होना

यूरिक एसिड क्रिस्टल का ज्वाइंट में जमा होना (Accumulation of Uric Acid Crystal in Joint)-


यूरिक ऐसिड (Uric Acid) बढ़ जाता है तो वह बहुत नन्हें-नन्हे क्रिस्टलों के रूप में जमा हो जाता है। ये हड्डियों मे ख़ासतौर से जोड़ों (Joint) के आस पास जमा होता है। ये क्रिस्टल (Crystals) बहुत ही धारदार होते हैं जो की जोड़ों की चिकनी झिल्ली में चुभते हैं तथा चुभन और भयंकर दर्द पैदा करते हैं।संधिवात (Arthritis) के कारण जोड़ों को घुमाने या गति उत्पन्न करने में कठिनाई महसूस होती है। ठंडी या शीत हवाओं के कारण पीड़ा बढ़ जाती है। इसकी सबसे बड़ी पहचान यह है कि इसमें रात में दर्द बढ़ जाता है और सुबह शरीर अकड़ता है। 


Accumulation of Uric Acid Crystal in Joint-यूरिक एसिड क्रिस्टल का ज्वाइंट में जमा होना

हाई यूरिक एसिड का अर्थ (Meaning of High Uric Acid)-


यदि किसी व्यक्ति की किडनी भीतरी दीवारों की लाइनिंग क्षतिग्रस्त हो तो ऐसे में यूरिक एसिड (Uric Acid) बढने की वजह से किडनी में स्टोन भी बनने लगता है। यूरिक एसिड के असंतुलन से ही गठिया जैसी समस्‍याएं हो जाती है। उच्‍च यूरिक एसिड की मात्रा को नियंत्रित करना अति आवश्‍यक होता है। यूरिक एसिड नियंत्रण के लिए इसके बढ़ने के कारण को जानना आवश्‍यक है। 

अगर आपको यह समस्‍या आनुवांशिक है तो यूरिक एसिड (Uric Acid) बैलेंस किया जा सकता है। लेकिन अगर शरीर में किसी प्रकार की दिक्‍कत है जैसे-किडनी का सही तरीके से काम न करना आदि तो डॉक्‍टरी सलाह लें और दवाईयों का सेवन करें। 

शरीर में हाई यूरिक एसिड (High Uric Acid) का अर्थ होता है कि आप जो भी भोजन ग्रहण करते है उसमें प्‍यूरिन की मात्रा में कमी है। जो शरीर में प्‍यूरिन की बॉन्डिंग को तोड़ देती है और यूरिक एसिड (Uric Acid) बढ़ जाता है। 

यूरिक एसिड को नियंत्रित कैसे करें (How To Control Uric Acid)-


1- अगर शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा लगातार बढ़ती है तो आपको भरपूर फाइबर वाले फूड खाने चाहिए। जैसे-दलियापालकब्रोकली आदि के सेवन से शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा नियंत्रित हो जाती है। आप साथ ही यह प्रयास भी करें कि अधिक से अधिक मात्रा में पानी पीया जाए। इससे रक्त में मौजूद अतिरिक्त यूरिक एसिड मूत्र के द्वारा शरीर से बाहर निकल जाता है। 

2- यूरिक एसिड बढ़ गया है और यदि दर्द बहुत ज्यादा है तो दर्द वाले स्थान पर बर्फ को कपडे मे लपेट कर सिंकाई करने से काफी फायदा होता है। 

3- आप अपने खान-पान की आदत बदलें। शरीर में जमा अतिरिक्त यूरिक एसिड (Uric Acid) को उदासीन करने के लिए खानपान में क्षारीय पदार्थों की मात्रा को बढ़ाना चाहिए। फलों, हरी सब्जियां, मूली का जूस, दूध, बिना पॉलिश किए गए अनाज इत्यादि में अल्कली की मात्रा अधिक होती है। 

4- शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा को कम करने के लिए हर दिन 500 मिलीग्राम विटामन सी (Vitamin C) लें। बस एक दो महीने में ही आपका यूरिक एसिड काफी कम हो जाएगा। 

5- यह सच है कि जैतून के तेल में बना हुआ भोजन भी शरीर के लिए लाभदायक होता है। चूँकि इसमें विटामिन ई (Vitamin E) भरपूर मात्रा में होता है जो खाने को पोषक तत्‍वों से भरपूर बनाता है और यूरिक एसिड को कम करता है। इसलिए खाना बनाने के लिए बटर या वेजटेबल ऑयल के बजाए कोल्ड प्रेस्ड जैतून के तेल का इस्तेमाल करें। तेल को गर्म कर देने पर इससे जल्द ही दुर्गध आने लगती है। दुर्गधयुक्त फैट शरीर के विटामिन ई को नष्ट कर देता है। यह विटामिन यूरिक एसिड के लेवल को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक होता है। जैतून के तेल के इस्तेमाल से शरीर में अतिरिक्त यूरिक एसिड (Uric Acid) नहीं बनेगा। 

Click Here for All Posts of Upachaar Aur Prayog

1 टिप्पणी:

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner