Avoid Physical Relationships on High Blood Pressure-उच्च रक्तचाप होने पर शारीरिक संबंधों से बचें

उच्च रक्तचाप में सावधानी (Carefulness in High Blood Pressure)-


सेक्स करना हेल्थ के लिए तो अच्छा ही है इसके अलावा सेक्स पति-पत्नी के रिश्तों को गहरा बनाने में भी सेक्स एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि सेक्स के समय स्ट्रेसफुल रहने से आपको फायदे के बजाय नुकसान भी हो सकता है। सिर्फ तनाव ही नहीं बल्कि ब्लड-प्रेशर (Blood-Pressure) असामान्‍य हो तो भी आप सेक्स ना करें अन्यथा आपको कई प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं। 


Avoid Physical Relationships on High Blood Pressure-उच्च रक्तचाप होने पर शारीरिक संबंधों से बचें

चूँकि शरीर में ब्लडप्रेशर (Blood Pressure) हर समय एक समान नहीं रह सकता है। अधिक गुस्सा करने पर आपका ब्लड-प्रेशर बढ़ जाता है। आपने देखा होगा कि भयभीत रहने एंव कठिन परिश्रम करने से भी ब्लड प्रेशर कुछ-कुछ बढ़ जाता है। दिमागी परेशानी के समय भी ब्लड प्रेशर असमान्य हो जाता है। ठीक इसी तरह संभोग करते समय शरीर के खून की गति में तेजी से संचार और आपका ब्लड-प्रेशर बढ़ जाता है।

चूँकि स्वस्थ व्यक्ति का उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) 100 से 140 तथा निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) 60 से 90 के बीच में होना चाहिए-लेकिन सेक्स करते समय यह गति बढ़कर 100-120 तक पहुंच जाती है। सेक्स की चरम सीमा आने तक आपकी ह्रदय गति 130-160 के आसपास पहुंच जाती है जो खतरनाक है। संभोग करते समय सेक्स करने वाली स्त्री को भी ज्यादा से ज्यादा जोश और चरमोत्कर्ष की आवश्यकता होती है इसलिए ह्रदय की गति और ब्लड प्रेशर भी बहुत अधिक बढ़ जाता है। 

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) के रोगी को कई प्रकार से सेक्स की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अधिक संभोग लिप्त होने के कारण तथा साथ ही ब्लड प्रेशर होने पर आपके शरीर में काफी कमजोरी आ जाती है। उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगी को संभोग करने में-मन न लगना, वीर्य का जल्दी गिरना तथा नामर्दी जैसी समस्या दिखाई देने लगती है।

ब्लडप्रेशर पर नियंत्रण (Blood Pressure Control)-


आपके शरीर में खून का दौरा सही तरीक से चलना बहुत जरूरी है। अगर किसी कारण ब्लड सर्कुलेशन तेज यानि उच्च रक्तचाप या निम्न रक्च चाप हो तो सेहत के लिए परेशानी बढ़ जाती है। 

मनुष्य का रक्तचाप (Blood-Pressure) कभी भी सामान्य नहीं रहता है तनाव के समय में आपका रक्तचाप ऊपर-नीचे होता रहता हैं और जब आप आराम की स्थिति में होते हैं तो आपका रक्तचाप सामान्य रहता है। ऐसे में आपको समय-समय पर अपना ब्लडप्रेशर चेक कराते रहना चाहिए और निम्न या उच्च रक्तचाप की स्थिति होने पर कुछ बातों पर देते हुए सावधानी की भी आवश्यकता है। जब बात आती है कि सेक्स भी स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है तो आपको हाई ब्लड-प्रेशर होने पर सेक्स करने से भी अवश्य बचना चाहिये आइए जानते है असामान्य ब्लडप्रेशर के दौरान सेक्स क्यों नहीं करना चाहिये।

असामान्य ब्लड-प्रेशर (Blood-Pressure) में ध्यान दें-


1- सबसे पहले आपको उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) में सेक्स करने के बजाय नमक का सेवन कम करके उच्च रक्तचाप को कंट्रोल करना चाहिए ताकि आपका ब्ल्डप्रेशर सामान्य हो सकें। 

2- आमतौर पर सेक्स के दौरान हृदयगति और रक्तचाप बढ़ जाता है ऐसे में यदि आपका ब्ल्डप्रेशर पहले से ही बढ़ा होगा तो आपके लिए ये एक बड़ा खतरा भी बन सकता हैं। उच्च‍ रक्तचाप के दौरान सेक्स करने से एंजाइना, हार्ट अटैकपैरालिसिस जैसी गंभीर बीमारियां होने की आशंका बढ़ जाती है। 

3- उच्च रक्तचाप के समय सेक्स करने से आपकी ऊर्जा ज्यादा लगती है। जिसका सीधा असर आपके हृदय पर पड़ता है और हृदय का आकार धीरे-धीरे बढ़ने लगता है इससे हार्ट फेल्योर होना, एंजाइना की समस्या, हार्टअटैक इत्यादि की आशंका भी इसी कारण से बढ़ जाती है। यदि ऐसे में आप संभोग करेंगे तो आपको जान का जोखिम भी बढ़ सकता है। 

4- उच्च रक्तचाप से पीडि़त लोगों को पति-पत्नी के अतिरिक्त अन्य किसी से सेक्स रिलेशन नहीं बनाने चाहिए। क्युकि ऐसा करने पर किसी के आ जाने का डर या मानसिक उत्तेजना और तनाव से आपका रक्त चाप बहुत बढ़ सकता है। इससे आप कई भयंकर बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं क्यूंकि इस समय आप कभी भी नार्मल फील नहीं करते है। 

5- यह तो आप जानते ही हैं कि सेक्स के दौरान बहुत कैलोरी बर्न होती है जिससे शरीर में कैलोरी की जरूरत बढ़ जाती है। इस कैलोरी की जरूरत को पूरा करने के दौरान आपकी अधिक एनर्जी लगती है। इस अवस्था में आपकी हृदयगति 150 से 180 तक भी आराम से पहुंच जाती है। हालांकि सेक्स के बाद आपकी हृदयगति वापिस सामान्य हो जाती है फिर भी आप सावधानी रक्खे और अधिक उत्तेजना से बचें। 

6- कई लोगों को उच्च रक्तचाप होने से कई यौन समस्याएं भी हो सकती हैं। ऐसे में आपको सेक्स करने से बचना चाहिए और रक्तचाप को सामान्य करने का पहले प्रयास करना चाहिए। 

7- उच्च रक्तचाप से न सिर्फ आप मानसिक तनाव से ग्रस्त होते हैं बल्कि सेक्स में अरूचि और घबराहट जैसी समस्याओं से भी घिर जाते हैं। जिस कारण क्रोध में आपके आपसी रिश्ते खराब होने का डर रहता है। 

8- उच्च रक्तचाप की दवाईयां लेने वाले मरीजों की भी सेक्स क्षमता कम होने लगती है और ऐसे में उच्च रक्तचाप के दौरान वे सेक्स करते हैं तो उन्हें निराशा हाथ लगने का डर भी रहता है पर्याप्त संतुष्टि नहीं होती है इसलिए पहले रक्तचाप को नार्मल करने के प्रयोग अपनाने चाहिए।

ब्लड-प्रेशर नार्मल कैसे करें (How To Normal Blood Pressure)-


1- आपको अपने खान-पान का विशेष ध्यान रखना बहुत जरूरी है। रोजाना एक कप गर्म दूध के साथ तीन-चार बादाम खाएं। फलों का जूस, नींबू पानी, हरी सब्जियों और सलाद को अपने आहार में जरूर शामिल करें। सलाद में चुकंदर को अवश्य ही शामिल करें। इससे खून की कमी भी पूरी होती है। नारियल पानी पीने से भी शारीरिक कमजोरी दूर होती है।

2- शरीर में पानी की कमी न होने दें चूँकि शरीर में पानी की कमी होने पर गर्मी के मौसम में यह परेशानी ज्यादा होती है। इसलिए दिन में दो-चार बार नींबू पानी सेवन जरूर करें।

3- शरीर में पोषक तत्वों, आयरन और विटामिन B-12 की कमी होने पर आपको एनिमिया की शिकायत हो सकती है। ब्लड प्रेशर से पीड़ित रोगी में एनिमिया की परेशानी अधिक देखी जाती है। 

4- रक्तचाप (Blood Pressure) का रोगी यदि शराब, बीड़ी-सिगरेट तथा पान-तंबाकू का इस्तेमाल बहुत अधिक करता है तो उसे ये सभी पदार्थ तुरंत ही बंद कर देने चाहिए। 

5- उच्च रक्तचाप के रोगी को हमेशा तरल पदार्थ ही लेने चाहिए। वसा एवं चर्बी युक्त खाने का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। नमक का इस्तेमाल खाने में बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। 

6- ब्लडप्रेशर (Blood Pressure) के रोगी को योग और आसन करना चाहिए। उच्च रक्तचाप के लोग जिन दवाईयों का प्रयोग करते है वह दवाईयां भी सेक्स शक्ति को नुकसान पहुचा सकती है। इस बात का भी अवश्य ध्यान रखना चाहिए।

7- उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) को सही करने के लिए जो दवाईयां प्रयोग की जाती है वे आपके सेक्स पावर को भी प्रभावित करती है। उच्च रक्तचाप को कंट्रोल में प्रयुक्त होने वाली औषधि एटेनोलोल एंव लिसिनोप्रिल से युक्त होती है। इसके इस्तेमाल करने से पुरुषों की सेक्स शक्ति और शरीर में बहुत अधिक कमजोरी आ जाती है। 

8- गिलोय, आँवला, सर्पगंधा, असगंधा और अर्जुन की छाल को बराबर मात्रा में पीस कर पावडर बना ले और एक चम्मच पावडर को पानी के साथ सुबह-शाम ले।

9- उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) में तरबूज और लीची खाना भी बेहद फयदेमंद है। शहतूत का शरबत आधा कप सुबह शाम पीने से ह्रदय सम्बंधित सभी प्रकार की कमज़ोरी दूर होती है। गाजर का मुरबा खाना भी फयदेमंद है।

10- एक  ग्राम सूखा धनिया और दो ग्राम सर्पगंधा को पांच ग्राम मिश्री में पीस कर पानी के साथ खाने से उच्च रक्तचाप नार्मल हो जाता है। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner