How is Treatment with Sun-ray charged Water-सूर्य-किरण आरोपित जल से उपचार कैसे किया जाता है

सूर्य-किरण आरोपित जल से उपचार कैसे किया जाता है (Treatment with Sun-ray Charged Water)-



पिछले लेख में हमने सूर्य किरणों का महत्व और इसे बनाने की विधि के बारे में आपको बताया था। इस लेख में हम आपको सूर्यकिरणों से आरोपित जल (Sun-ray Charged Water) से कैसे उपचार करेगे इस बारे में अवगत कराने का प्रयास करेगें। सबसे पहले आपको जिस रंग का सूर्यकिरण से आरोपित जल तैयार करना है उस रंग की कांच की बोतल में शुद्ध जल भर कर आठ घंटे के लिए सूर्य के प्रकाश में रख दे। जहाँ तक हो सके तो आप इस सूर्य किरण जल की बोतल को किसी सुरक्षित जगह रक्खे। ताकि आपके बच्चे बिना रोग के इस जल का सेवन न कर लें। 


How is Treatment with Sun-ray charged Water-सूर्य-किरण आरोपित जल से उपचार कैसे किया जाता है

लगाने वाली दवा तैयार करना-


रोगी को लगाने की किसी भी दवा जैसे-तेल या ग्लिसरीन को रोग के लक्षण के अनुसार आवश्यक रंग वाली बोतल में भरें और तीस दिनों तक प्रतिदिन आठ-आठ घंटे तक सूर्य के प्रकाश में रखें। फिर आप इसे आवश्यकता होने पर उपयोग कर सकते है ।

खाने वाली दवा तैयार करना-


शक्कर, बतासे, मिश्री या होम्योपैथिक इलाज में उपयोग में आने वाली गोली रोग के लक्षण के अनुसार आवश्यक रंग की बोतल या पन्नी (पोलीथिन) में तीस दिन तक आठ-आठ घंटे प्रतिदिन धूप में रखें। 

पीड़ित अंग का उपचार-


मरीज के जिस अंग में कष्ट हो उस पर से कपड़े हटाकर रोग के अनुसार आवश्यक रंग का कांच या पन्नी लगाएं (बाकी शरीर को ढक सकते हैं) और प्रतिदिन 20 से 60 मिनट तक सूर्य प्रकाश पड़ने दें।

सूर्य-किरण चार्ज जल का रोग में प्रयोग (Use of Sun-ray Charged Water in Disease)-


सर्दी-जुकाम (Cold and cough)-


सर्दी-जुकाम में लाल या नारंगी रंग की बोतल से तैयार सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) दिन में चार से पांच बार सेवन करें। लाल या नारंगी रंग की बोतल का तैयार तेल नाक, गले और सीने पर लगाएं।

सिरदर्द (Headache)-


सिर दर्द यदि गर्मी के दिनों का सिरदर्द या गर्मी के कारण सिर दर्द हो या फिर चक्कर आता हो तो नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें और नीले रंग की बोतल का तेल सिर में लगाएं। 

सर्दी के कारण सिर दर्द हो तो लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें और तेल सिर में लगाएं। यदि तनाव या चिंता के कारण सिर दर्द हो तो हरे रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) लेंना चाहिए और हरे रंग की बोतल का तेल सिर में लगाएं।

आँखों की समस्या (Eyes Problems)-


यदि आंखों में दर्द हो, आंसू आते हों या शीत की वजह से खुजली की समस्या हो तो लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें। इसके साथ ही उसी पानी से आंखें धोएं और लाल रंग के कांच का चश्मा लगाएं। 

यदि गर्मी के कारण आंखों में जलन व दर्द हो तो नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें तथा इसी पानी से आंखें धोएं और नीले रंग के कांच का चश्मा लगाएं। 

गर्दन में दर्द (Neck Pain)-


गर्दन में दर्द, अकड़न, पीठ में दर्द, हाथ में दर्द या सुन्नपन हो तो दर्द वाले भाग पर कांच का लाल रंग का टुकड़ा रखें या लाल रंग की पन्नी लपेटें और इस पर बीस से तीस मिनट तक सूर्य का प्रकाश पड़ने दें। इसके साथ ही लाल रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) सेवन करें और लाल रंग की बोतल का तेल पीड़ित भाग पर लगाएं और लाल रंग की कालर वाली कमीज उपयोग करें।

कमर दर्द (Waist Pain)-


कमर में दर्द, उठने बैठने में दिक्कत, अकड़न, या पैर में दर्द हो तो दर्द वाले भाग पर लाल या नारंगी रंग की पन्नी बांधकर धूप में लेटें। लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) का सेवन करें और तेल की मालिश करें। 

घुटने के दर्द (Knee Pain)-


घुटने के दर्द में आप घुटने के चारो तरफ लाल पन्नी लपेटें और धूप में बैठे। लाल रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें और लाल या नारंगी रंग की बोतल का तेल लगाएं। 

जोड़ में मोच (Sprain in Joint)-


मोच होने पर या फिर किसी भी जोड़ में मोच आने पर आप प्रभावित स्थान को नीले रंग की पन्नी से लपेट कर उपचार करें और नीले रंग की बोतल का तेल लगाएं। 

गैस या पेट में जलन (Gas or Abdominal Burning)-


गैस की परेशानी होने पर भूख न लगना, पेट में भारीपन, पेट में जलन, चिड़चिड़ापन, तनाव, आलस्य आदि लक्षण नजर आते है। ऐसे में हरे रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) सेवन करें और हरे रंग की बोतल के तेल की सिर और पेट पर मालिश करें। इसके साथ ही हरे रंग की सब्जी और भाजी का अधिक उपयोग करें। 

कब्ज या आलस्य (Constipation or Laziness)-


कब्ज या पेट के अन्य रोगों, आलस्य आदि से मुक्ति के लिए सुबह शाम लाल या नारंगी रंग की और दोपहर को हरे रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें और हरे रंग की बोतल का तेल सिर में लगाएं। 

भूख न लगना (Do not Get Hungry)-


भूख की कमी होने पर लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करना चाहिए और हरे रंग की बोतल का तेल सिर में लगाएं। 

मुंह में छाले (Mouth Ulcer)-


मुंह में छाले होने पर नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) पीना चाहिए तथा इसी पानी से दिन में तीन से चार बार कुल्ला करें। इसी नीले रंग की बोतल में तैयार किये गए ग्लिसरीन को मुंह और जीभ में लगाएं। इससे आपको लाभ होगा। 

लो ब्लड प्रेशर (Low Blood Pressure)-


निम्न रक्तचाप होने पर लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करना चाहिए। लाल रंग की बोतल के तेल की मालिश करें। अचानक रक्तचाप कम होने पर कड़क काॅफी लें। 

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure)-


उच्च रक्त चाप को नियंत्रित करने के लिए अपनी तासीर के अनुसार नीले या हरे रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करना चाहिए। 

हृदय की समस्या (Heart Problem)-


हृदय की समस्या होने पर लाल या नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) सेवन करना चाहिए और उसी रंग के तेल की मालिश सीने और पीठ पर करें। इससे आपको अप्रत्यशित रूप से लाभ होगा। 

अनियमित मासिक धर्म (Irregular Menstruation)-


यदि मासिक स्राव कम आता हो या दो तीन महीने के अंतराल पर आता हो तो आप लाल रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन कीजिये। निम्न उदर भाग पर लाल पन्नी के द्वारा या फिर लाल प्रकाश डाल कर उपचार करें और लाल या नारंगी रंग के तेल को निम्न उदर भाग पर लगाएं। 

यदि मासिक स्राव अधिक आता हो या महीने में दो बार आता हो तो नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल (Sun-ray Charged Water) लें। नीले रंग की पन्नी निम्न उदर पर बांधें व नीले रंग के बल्ब का प्रकाश (सूर्य का विकल्प) डालें। नीले रंग की बोतल का तेल भी निम्न उदर भाग पर लगाएं। 

नामर्दी या नपुंसकता (Impotence)-


पौरुष शक्ति में कमी होने पे लाल रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें। लाल रंग का तेल निम्न उदर भाग और गुप्तांग पर लगाएं और सिर में हरे या नीले रंग के तेल की मालिश करें। 

मानसिक पीड़ा (Mental Anguish)-


उदासी और भय के लिए नारंगी रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल लें और सिर में नारंगी रंग की बोतल का तेल लगाएं। 

गुस्सा या नींद न आना (Angry or Insomnia)-


चिड़चिड़ापन-गुस्सा- नींद न आना आदि में नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल सेवन करें और उसी रंग की बोतल का तेल सिर में लगाएं। 

घमोरियां (Ghamoriya)-


घमौरियां होना-गर्मी के दिनों में यह समस्या बहुत आती है तथा इससे मुक्ति के लिए आप नीले रंग की बोतल का सूर्य-किरण चार्ज जल लें और नीले रंग को पीड़ित भाग पर लगाएं। 

लू लगना (Sunstroke)-


लू से बचाव में गर्मियों में नीले या आसमानी रंग का सूर्य-किरण चार्ज जल अधिक उपयोग करें। कोशिश कीजिये जब भी आप साधारण रूप से भी यदि जल का सेवन करते है तो उस बोतल में रक्खा हुआ जल सेवन कीजिए जिसका रंग नीला या आसमानी हो। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें