Uric Acid Treatment-यूरिक एसिड का इलाज

यूरिक एसिड का इलाज (Uric Acid Treatment)-


यूरिक एसिड (Uric Acid) बढ़ना आजकल लोगों में एक गंभीर समस्या बन गई है। प्रारंभिक अवस्था में शरीर में जकड़न शुरू होती है और कुछ समय उपरान्त फिर छोटे जोड़ों में दर्द शुरू होता है। आपको यूरिक एसिड बनने की समस्या को हल्के में बिलकुल भी नहीं लेना चाहिए। लापरवाही करने पर फिर इलाज होने में समस्या होती है। अगर आप भी इस बीमारी से पीड़ित है तो अभी से ध्यान देना शुरू करें। इलाज के साथ-साथ आपको अपने खान-पान का भी विशेष ध्यान देना आवश्यक है। 


Uric Acid Treatment-यूरिक एसिड का इलाज

यूरिक एसिड बढने पर ध्यान दें (Focus on Increasing Uric Acid)-


आपकी कमजोर पाचन प्रणाली के कारण यूरिक एसिड (Uric Acid) बनने की समस्या में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना आपके लिए हानिकारक है। अत:इसे बंद करने में ही आपकी भलाई है। कुछ वर्ष पहले तक यूरिक एसिड की समस्या कम ही लोगों को हुआ करती थी। लोगों को ये समस्या अधिकतर वृद्धावस्था में ही होती थी या फिर अमीर खानदान के लोगों में जादा पाई जाती थी। क्युकि बिना शारीरिक परिश्रम किये गरिष्ट भोजन उनका मुख्य कारण था। ये अलबत्ता आलसी प्रवृति के लोगों में भी अधिक होती थी। इसके कुछ कारण अनुवांशिक भी देखने को मिलते थे। लेकिन आज ये बीमारी हमारे समाज के हर वर्ग हर आयु के लोगों को होने लगी है और एलोपैथी में इस बीमारी के लिए प्रयोग की जाने वाली औषधियां शरीर में गुर्दो आदि अवयवों के लिए काफी नुकसानदेह होती है। 

इस बीमारी का उपचार यदि आरम्भ में ही सही समय पर न किया जाये तो मरीज का न् केवल उठना बैठना और चलना फिरना भी दुश्वार होता ही है। बल्कि समय बीत जाने पर यह रोग जड़ जमा कर और भी दुस्साध्य भी हो जाता है। पिछली तीन-चार पोस्ट में हमने यूरिक एसिड (Uric Acid) के बारे में काफी वर्णन कर चुके है। आइये जाने कि अगर यूरिक एसिड बढ़ा है तो कम करने के लिए क्या लें। 

यूरिक एसिड बढ़ने पर क्या खाएं (What to eat if Uric Acid is Increased)-


1- आप बाजार से एक कच्चा हरा पपीता लगभग एक किलो तक के वजन का ले कर अच्छी तरह धो लें और फिर उसे बिना छीले ही उसके छोटे-छोटे पीस काट लें। फिर किसी पतीले में डाल कर इस में तीन किलो पानी मिला दें और इस में पांच पैकेट ग्रीन टी (या किसी कपड़े में बांधकर दो बड़े चम्मच) के डाल कर 15 मिनट तक चाय की तरह उबालकर इसे छान लें और पूरा दिन आपको यही पानी पीना है। ये लगभग छ या सात गिलास बन जाएगा। आपको इसे पंद्रह दिन लगातार उपयोग करना है। इसके बाद टेस्ट करवा लें यदि थोडा बहुत बाकी है। तो इसे पन्द्रह दिन और ले लें। आपकी यूरिक एसिड (Uric Acid) की समस्या खत्म हो जायेगी और दुबारा नहीं होगी।

 2- अजवाइन के बीज का अर्क भी गठिया और यूरिक एसिड (Uric Acid) की समस्या दूर करने का एक प्रसिद्ध प्राकृतिक उपचार है।  अजवाइन के बीज का इस्तेमाल गठिया रोग के उपचार में लंबे समय से किया जाता रहा है। अजवाइन में दर्द को कम करने, एंटीऑक्सीडेंट और डाइयूरेटिक गुण पाया जाता है। साथ ही इसे यूरेनरी एंटीसेप्टिक भी माना जाता है और कई दुर्लभ मामलों में नींद न आने की समस्या, व्याग्रता और नर्वस ब्रेकडाउन का उपचार भी इससे किया जाता है। इसके बीज का इस्तेमाल जहां कई तरह के हर्बल सप्लीमेंट्स में किया जाता है। वहीं इसकी जड़ भी काफी उपयोगी होती है। इसलिए आप अपने भोजन पकाने में अजवाइन का अवश्य ही इस्तेमाल करें। 

3- बाजार में बिकने वाले बेकरी के फूड स्‍वाद में तो लाजबाव होते है। लेकिन इसमें सुगर की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है।  इसके अलावा, इनके सेवन से शरीर में यूरिक एसिड़ (Uric Acid) भी बढ़ जाता है। अगर आपको यूरिक एसिड कम करना है तो आप पेस्‍ट्री और केक खाना बंद कर दें। 

4- भोजन की हर दिन ली जाने वाली खुराक में कम से कम 500 ग्राम विटामिन सी जरूर लें। चूँकि विटामिन सी, हाई यूरिक एसिड को कम करने में सहायक होता है और यूरिक एसिड को पेशाब के रास्‍ते निकलने में भी मदद करता है। यकृत की शुद्धि के लिए नींबू अक्सीर है। इसलिए नींबू का साईट्रिक ऐसिड (Citric acid) भी शरीर में बनने वाले यूरिक एसिड का नाश करता है। दो नीबू को आप सुबह पानी में मिला कर तथा दोपहर में दो नीबू पानी से ले और हो सके तो रात को भी दोहराए आपको एक हफ्ते में ही फर्क महसूस होने लगेगा। पन्द्रह दिन बाद आप सिर्फ दो नीबू का पानी सुबह ही लेते रह सकतें है। आपका यूरिक एसिड (Uric Acid) कंट्रोल में रहेगा। 

5- वैसे तो शरीर में यूरिक एसिड  की मात्रा बढने पर इसे कम करना इतना आसान नहीं होता है। लेकिन यदि शतावर (Asparagus) की जड़ का चूर्ण 2-3 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन दूध या पानी के साथ लिया जाए तो यूरिक एसिड घटना प्रारम्भ हो जाता है और शरीर की कमजोरी भी दूर होती है। 

Uric Acid Treatment

6- सेब का सिरका (Apple Vinegar) भी रक्त का पी एच वैल्यू बढ़ाकर हाई यूरिक एसिड (Uric Acid) लेवल को कम करता है। लेकिन ध्यान रहे कि सेब का सिरका कच्चा और बिना पानी मिला और बिना पाश्चरीकृत होना चाहिए। आप इसे किसी भी हेल्थ फूड स्टोर से आप इसे आसानी से हासिल कर सकते हैं। 

7- लाल शिमला मिर्च, टमाटर, ब्लूबेरी, ब्रोकली और अंगूर एंटीऑक्सीडेंट विटामिन का बड़ा स्रोत है। एंटीऑक्सीडेंट विटामिन फ्री रेडिकल्स अणुओं को शरीर के अंग और मसल टिशू पर आक्रमण करने से रोकता है। जिससे यूरिक एसिड का स्तर कम होता है दैनिक जीवन में आप इसे उपयोग में अवश्य लें। 

8- चेरी में एंटी इंफ्लामेट्री प्रॉपर्टी होती है जो यूरिक एसिड (Uric Acid) को मात्रा को बॉडी में नियंत्रित करती है। हर दिन 10 से 40 चेरी का सेवन करने से शरीर में उच्‍च यूरिक एसिड की मात्रा नियंत्रित रहती है। लेकिन एक साथ सभी चेरी न खाएं बल्कि आप इसे थोड़ी-थोड़ी देर में खाएं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner