Soybean Contains More Protein-सोयाबीन में अधिक प्रोटीन होता है

शाकाहारी आहार सोयाबीन (Vegetarian Diet Soybeans)-


सोयाबीन (Soybean) ही एक मात्र ऐसा सौम्य पदार्थ है जिसमे प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइडट्रेट, खनिज, लवण, कैलोरी आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैंसोयाबीन के सेवन से लाभ ही लाभ हैं। सोयाबीन का शरीर और स्वास्थ्य पर बहुत अच्छा असर पड़ता है उतना अन्य किसी भी अनाज का नहीं पड़ता है। सोयाबीन कब्ज़ भी नहीं करता बल्कि कब्ज़ निवारण करता है।

Vegetarian Diet Soybeans
Soybean Contains More Protein
Soyabean oil
Soybean Aata

Soybean Contains More Protein-सोयाबीन में अधिक प्रोटीन होता है

सोयाबीन (Soybean) के सेवन से खून में अम्लता नहीं बढ़ती बल्कि यह खून को क्षार प्रधान बनाते हुए विजातीय द्रव्यों को बाहर करता है। सोयाबीन के सेवन से गैस भी पैदा नहीं होती है। 

सोयाबीन प्रोटीन से भरपूर होता है (Soybean is Rich in Protein)-


सोयाबीन का दही उदर विकार नष्ट करने, पेट और आँतों को साफ़ रखने और पाचन शक्ति ठीक रखने के लिए बहुत ही उत्तम है। हमने अपनी पिछली पोस्ट में सोयाबीन का दूध (Soyabean Milk) कैसे बनाये इसका वर्णन किया है। देखे- सोयाबीन मिल्क कैसे बनायें-How to Make Soyabean Milk

सोयाबीन (Soybean) एक सस्ता टॉनिक है जो शरीर के अंग-प्रत्यंग को स्वस्थ्य व् सबल रखता है इसका प्रभाव पूरे शरीर पर बहुत अच्छा पड़ता है। जिन बच्चों के शरीर का ठीक से विकास नहीं होता है उनके लिए तो सोयाबीन एक प्रकार का कारगर टॉनिक है।

सोयाबीन के सेवन से बच्चों के शरीर में स्वस्थ कोष बनते हैं। दिमाग के ज्ञान तंतु बलवान होते हैं और उनकी देह सुन्दर सुडौल बनती है। सोयाबीन (Soybean) एकमात्र ऐसा अनाज है जो बच्चों, खिलाडियों, दौड़ लगाने वालों, परिश्रम करने वाले मजदूरों, व्यापारियों और दिमागी काम करने वालों को ऊँची प्रोटीन और कैलोरी पर्याप्त मात्रा में प्रदान करके स्वास्थ्य और शरीर को पुष्ट और बलवान बनाता है।

सोयाबीन से सभी प्रकार के खाद्य पदार्थ एवं व्यंजन बनाये जा सकते हैं जो अपेक्षाकृत सस्ते भी पड़ते हैं। पौष्टिक व् शक्तिवर्धक भी होते हैं। गरीब वर्ग के लिए तो सोयाबीन (Soybean) प्रकृति का वरदान ही है

सोयाबीन का तेल (Soyabean Oil)-


सोयाबीन का तेल-Soyabean Oil

सोयाबीन (Soybean) का तेल भी बनता है और छोटे बड़े पैकिंग में बाजार में मिलता भी है। यह तेल स्वादिष्ट भी होता है और अन्य सभी खाद्य तेलों से ज्यादा पौष्टिक भी होता है। सोयाबीन का तेल मक्खन के गुणों की पूर्ति करता है। अन्य तेलों के मुकाबले सस्ता होते हुए भी सोयाबीन तेल ज़्यादा पौष्टिक होता है। इसलिए रसोई में सोयाबीन का ही तेल उपयोग में लेना चाहिए।

सोयाबीन का आटा (Soyabean Aata)-


सोयाबीन का आटा बनाने के लिए आप इसे शाम को पानी में भिगो दीजिये। दूसरे दिन सोयाबीन (Soybean) को अच्छी तरह सुखा लीजिये। अब आप इसे चक्की में पिसवा लें। अब आप इस आटे को गेहूं के आटे में मिला लें या फिर सिर्फ सोयाबीन के आटे की ही रोटी बना लें।

आप इस बात का ध्यान अवश्य रखें की सोयाबीन का आटा (Soyabean Aata) अधिक दिनों तक रखने पर ख़राब हो जाता है। इसलिए कम समय के योग्य मात्रा में ही आटा तैयार करें। इसका स्वाद बादाम जैसा मधुर और रंग भी बादामी पीला होता है। माँसाहारी लोग मांस की पौष्टिकता की बड़ी तारीफ़ करते हैं। लेकिन पोषक-आहार विशेषज्ञों द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों सेसिद्ध होता है कि एक किलो सोयाबीन आटा ढाई किलो मांस के बराबर पुष्टिदायक होता है।

सोया फ्राई (Soya Fry)-


सोया फ्राई (Soya Fry)

पानी में नमक व् खाने का सोडा डाल कर आप इसमें सोयाबीन डाल कर रात को भिगो दीजिये। अब आप सुबह इसे निकाल कर तेल में कुरकुरे होने तक तल लें। ये सोया फ्राई बहुत स्वादिष्ट और मज़ेदार होता है। आप इसमें हल्का मसाला भी मिला लें। ये सोया फ्राई स्वादिष्ट ही नहीं बल्कि सस्ता भी हैं। इसे आप खुद भी खायें तथा अपने मेहमानों को भी खिलाइये।

सोया बॉयल्ड (Soya Boiled)-


सोयाबीन को एक दिन पहले रात को पानी में डाल कर लगभग बारह घंटे के लिए भिगो कर रख दें। अब आप इसे दूसरे दिन इन्हें कुकर में उबाल लें। ठंडा होने पर पानी से सोयाबीन निकाल लें। अब इस पर मसाले बुरकते हुए मिला लें। प्याज और हरा धनिया काट कर मिला लें। आप यदि चाहे तो पालक, ककड़ी, गाजर, टमाटर जो भी उपलब्ध हो काटकर डाल दें। इसके उपर से इसमें निम्बू निचोड़ दें। इलायची पीस कर डाल दें या इसे मीठा करना हो तो मसाले न डाल कर गुड़ मसल कर डाल दें। आप इसे खूब चबा चबा कर नाश्ते में खाएं। यह प्रयोग ज़्यादा नहीं तो बस आप इसे  सिर्फ चालीस दिन ही नियम से कर लें। फिर देखें कि शरीर में कैसी चुस्ती, फुर्ती और ताकत आती है

हमसे कई बार बहुत से किशोर युवा और युवती हमेशा पूछते है कि शरीर का दुबलापन कैसे दूर करें। आपको मेरी सलाह है कि आप डेढ़-दो माह धैर्यपूर्वक रोज़ाना सोया बॉयल्ड को नाश्ते में खूब चबा चबा कर खाएं और देख लें कि उनका शरीर कैसा सुडौल और शक्तिशाली बनता है। सोयाबीन में प्रोटीन इतनी ज्यादा मात्रा में होता है कि इसे "प्रोटीन का राजा" कहा जाता है। ये प्रोटीन शरीर की वृद्धि, विकास और सुडौलता के लिए कितना ज़रूरी है। यह सभी बुद्धिमान जानते हैं।

Click Here for All Posts of Upachaar Aur Prayog

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Upchar Aur Prayog

About Me
This Website is all about The Treatment and solutions of Home Remedies, Ayurvedic Remedies, Health Information, Herbal Remedies, Beauty Tips, Health Tips, Child Care, Blood Pressure, Weight Loss, Diabetes, Homeopathic Remedies, Male and Females Sexual Related Problem. , click here →

आज तक कुल पेज दृश्य

हिंदी में रोग का नाम डालें और परिणाम पायें...

Email Subscription

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner