This website about Treatment and use for General Problems and Beauty Tips ,Sexual Related Problems and his solution for Male and Females. Home treatment,Ayurveda treatment ,Homeopathic Remedies. Ayurveda treatment tips in Hindi and also you can read about health Related problems and treatment for male and female

loading...

10 अक्तूबर 2015

घरेलू उपचार पसलियों के दर्द का -Home remedies rib pain

By
पसलियों का दर्द आज-कल आम शिकायत सुनने और देखने को मिल रही है -यह दर्द पसलियों का होता है जो छींक या खाँसी आने पर और बढ़ जाता है-अगर पसलियों के ऊपर झटका लगा तो ऐसा लगता है कि जान निकल गई-यह दर्द सामने की ओर ज्यादा होता है- 

वेसे ये बीमारी  खून में विटामिन "डी" की मात्रा कम होने से भी पसलियों व छाती दर्द में  होता है।



क्यों होता है ये दर्द :-


आपने देखा होगा कि कुछ लोगों को कढ़ी रायता-आइसक्रीम व दही-बड़े के सेवन करने से Pain in chest उभर आता है। इसका कारण छाती की Muscles का ठंडी चीज़ों के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता है-

वैसे यह खतरनाक (Dangerous ) रोग नहीं है लेकिन दर्द शुरू होने पर रोगी को अपार कष्ट का सामना करना पड़ता है| Lungs में कफ जाने से या फेफड़ों में सर्दी का प्रकोप होने से वायु का उभार तेज हो जाता है और सांस की गति गड़बड़ा जाती है| वायु बार-बार पसलियों से टकराती हैं तथा कफ उसके निकलने के मार्ग को रोकता है-यही पसलियों का दर्द है-

जो व्यक्ति अधिक ठंडी चीजों तथा फ्रिज (Fridge ) में रखे पानी का इस्तेमाल हर समय करता है- उसकी पसलियों में दर्द की शिकायत अक्सर होने लगती है|

यह रोग बच्चों को अधिक होता है, क्योंकि उनके नाजुक शरीर को ठंड बड़ी जल्दी लगती है| मौसम में अचानक बदलने तथा धूप में काम करने के बाद ice water पी लेने से भी फेफड़ों को ठंड लग जाती है| यही ठंड पसलियों की पीड़ा के रूप में परिवर्तित हो जाती है-पसलियों में वायु का प्रकोप- बर्फ-ठंडा पानी-लौकी-तरबूज-खीरा-सेब- नारंगी-संतरा-केला एवं अनार मात्रा में खाने तथा बासी और ठंडा दूध अधिक मात्रा में पीने से पसलियों में दर्द होने लगता है-

यदि आप बिना मलाई वाले दूध (Skimmed milk )  का सेवन प्रतिदिन करते हैं तो पसलियो की इस बीमारी और छाती दर्द से कोसों दूर रहेंगे। प्रोटीन युक्त संतुलित भोजन व विटामिन से भरपूर सलाद (salad )लगभग तीन सौ ग्राम नित्य लेना भी आपको पसलियों के दर्द से निजात दिलाता है -

लक्षण क्या है (What are the symptoms ) ;-


रोगी का हाथ बार-बार पसलियों पर जाता है तथा उसकी सांस धौंकनी की तरह चलने लगती है-भूख-प्यास बिलकुल नहीं लगती और हाथ-पैर ढीले पड़ जाते हैं -कभी-कभी बुखार भी आ जाता है-बेचैनी बढ़ जाती है-उठते-बैठते, लेटते अथवा करवट लेते - किसी भी प्रकार चैन नहीं मिलता और यदि बच्चा है तो वह बार-बार उठकर भागता है-माथे पर पसीना-गले में खुश्की तथा शरीर की हरकत बढ़ जाती है-

घरेलू उपाय (Home Remedy ) :-


तारपीन (Turpentine ) के सफेद तेल में थोड़ा-सा कपूर (camphor ) मिलाकर थोड़ी-थोड़ी देर बाद पसलियों पे हलके हाथो से मालिश करे तथा  सीने तथा पसलियों पर शुद्ध शहद (Pure honey ) का लेप लगाएं-

ताज़ी चौलाई (Amaranth )को पीसकर उसका  रस निकाल लें फिर उसे सरसों के तेल (Mustard oil ) में मिलाकर छाती तथा पसलियों पर मलें नाक के नथुनों एवं माथे पर भी इस तेल का लेप करे-

अदरक (Garlic ) तुलसी (Basil ) तथा कालीमिर्च (Black pepper ) का काढ़ा बनाकर उसमें एक चुटकी सेंधा नमक (Rock salt )मिलाकर सेवन करना चाहिए -

गाय के सींग (Cow horn ) को पानी में घिसकर चंदन (Sandalwood ) की तरह बच्चे या बड़े की पसलियों पर मलें या फिर गाय या नीलगाय के सींग का भस्म 4-4 रत्ती सुबह-शाम शहद के साथ चाटें -पसलियों का दर्द गायब हो जाएगा-

पीपल के पत्तों को जलाकर इसका चौथाई चम्मच भस्म शहद के साथ चाटने से पसलियों में गरमी भरने लगती है-

सरसों के तेल में जरा-सा कपूर तथा एक चुटकी नमक मिलाकर गरम करके सहता-सहता मलें या सरसों के तेल में तारपीन का तेल मिलाकर थोड़ी-थोड़ी देर बाद रोगी की पसलियों पर मालिश करनी चाहिए-

लहसुन की कली को भूनकर चूर्ण के रूप में शहद के साथ चाटें-

अदरक की गांठ छीलकर उसमें नमक लगा लें-फिर इसे रोगी को चूसने के लिए दें या फिर पानी में पुदीना की पांच पत्तियां तथा पांच कालीमिर्च डालकर चाय बनाकर पिएं-

गाय के घी में जायफल (Nutmeg ) घिसकर पसलियों पर तीन-चार बार लेप करें-रीठे (Reetha ) के काले बीजों को पानी में घिसकर छाती पर लेप करें

कालीमिर्च 6 ग्राम-लौंग 3 ग्राम- हल्दी 6 ग्राम एवं सेंधा नमक 4 ग्राम - सबको पीसकर एक गिलास पानी में उबालें और जब पानी आधा कप रह जाए तो सहता-सहता पिएं-

उपचार और प्रयोग-

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें